#19 Trending Author
Oct 13, 2016 · 1 min read

कभी भी चोट अपनों से ,यहाँ जब दिल ने’ खायी है

कभी भी चोट अपनों से ,यहाँ जब दिल ने’ खायी है
न जाने पीर क्यों उसकी नज़र आँखों में’आयी है

छिपी रहती जो’ दिल में है वही बस बात है अपनी
निकलती जब लबों से ये तभी होती परायी है

नहीं परवाह अब हमको जमाने की रही देखो
नयी दुनियाँ तुम्हारे सँग सनम जबसे बसायी है

हमें मालूम है हमको बहुत तुम याद करते हो
हमें ये हिचकियों ने बात खुद आकर बतायी है

बरसते बारी बारी से यहाँ सुख दुख भरे बादल
समझ पर ‘अर्चना’ ये बात हमको आज आयी है
डॉ अर्चना गुप्ता

196 Views
You may also like:
* फितरत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पृथ्वी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
A Warrior Of The Darkness
Manisha Manjari
बहंगी लचकत जाय
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
आ लौट के आजा घनश्याम
Ram Krishan Rastogi
💐💐धड़कता दिल कहे सब कुछ तुम्हारी याद आती है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
खस्सीक दाम दस लाख
Ranjit Jha
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बस करो अब मत तड़फाओ ना
Krishan Singh
गौरैया बोली मुझे बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
बिछड़न [भाग ३]
Anamika Singh
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
पंचशील गीत
Buddha Prakash
💐💐प्रेम की राह पर-50💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐💐प्रेम की राह पर-12💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जहां चाह वहां राह
ओनिका सेतिया 'अनु '
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
हवाओं को क्या पता
Anuj yadav
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
चांदनी में बैठते हैं।
Taj Mohammad
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
Loading...