Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-242💐

कभी पूछो हमसे क़यामत के माने,
‘बे-एतिबार’कहे इसे शाम को जाने।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2475.पूर्णिका
2475.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लगी राम धुन हिया को
लगी राम धुन हिया को
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
त्योहार पक्ष
त्योहार पक्ष
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दिए जो गम तूने, उन्हे अब भुलाना पड़ेगा
दिए जो गम तूने, उन्हे अब भुलाना पड़ेगा
Ram Krishan Rastogi
■ मदमस्त तंत्र...
■ मदमस्त तंत्र...
*Author प्रणय प्रभात*
दिल के टुकड़े
दिल के टुकड़े
Surinder blackpen
अपना ख़याल तुम रखना
अपना ख़याल तुम रखना
Shivkumar Bilagrami
ऐ सुनो
ऐ सुनो
Anand Kumar
कायनात से दिल्लगी कर लो।
कायनात से दिल्लगी कर लो।
Taj Mohammad
वह है बहन।
वह है बहन।
Satish Srijan
* साम वेदना *
* साम वेदना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" मां भवानी "
Dr Meenu Poonia
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्तर भी है तो प्यार की कोई उमर नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
रक्षा -बंधन
रक्षा -बंधन
Swami Ganganiya
देखा तुम्हें सामने
देखा तुम्हें सामने
Harminder Kaur
नहीं हूँ मैं किसी भी नाराज़
नहीं हूँ मैं किसी भी नाराज़
ruby kumari
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
Hitanshu singh
भगवान विरसा मुंडा
भगवान विरसा मुंडा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बचपन
बचपन
नन्दलाल सुथार "राही"
जो मासूम हैं मासूमियत से छल रहें हैं ।
जो मासूम हैं मासूमियत से छल रहें हैं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
झील किनारे
झील किनारे
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
ख़्वाहिश है की फिर तुझसे मुलाक़ात ना हो, राहें हमारी टकराएं,ऐसी कोई बात ना हो।
ख़्वाहिश है की फिर तुझसे मुलाक़ात ना हो, राहें हमारी टकराएं,ऐसी कोई बात ना हो।
Manisha Manjari
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
प्रेम की अनिवार्यता
प्रेम की अनिवार्यता
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
वसुधैव कुटुंबकम् की रीत
वसुधैव कुटुंबकम् की रीत
अनूप अम्बर
रिश्ते-नाते
रिश्ते-नाते
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कुछ दुआ का
कुछ दुआ का
Dr fauzia Naseem shad
💐💐तुम अपना ख़्याल रखना💐💐
💐💐तुम अपना ख़्याल रखना💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...