Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कभी ज़मीन कभी आसमान…..

कभी ज़मीन कभी आसमान रखता हूँ,
मैं अपने ज़ेहन में सारा जहान रखता हूँ।।

ये सोचकर कि न तकलीफ़ हो किसी दिल को,
हरेक लफ़्ज़ में शीरी ज़ुबान रखता हूँ।।

तुम अपने झूठ से कब तक दबाओगे सच को,
मिलेगी जीत उसे, इत्मिनान रखता हूँ।।

उन्हीं पे जाके ठहर सी गयी नज़र मेरी,
इधर-उधर की न बातों पे ध्यान रखता हूँ।।

परों को मेरे कतर कर बिगाड़ क्या लोगे,
मैं हौसलों से भी ऊँची उड़ान रखता हूँ।।

मिलेगी एक न यक दिन मुझे मेरी मंज़िल,
मैं अपनी सोच को हरदम जवान रखता हूँ।।

सभी की आँख लगे बात “अश्क” से करने,
जो दिल की लब पे कभी दास्तान रखता हूँ।।

© अश्क चिरैयाकोटी
20/06/2022

8 Likes · 4 Comments · 277 Views
You may also like:
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
कुण्डलिया
Dr. Sunita Singh
मानव_शरीर_में_सप्तचक्रों_का_प्रभाव
Vikas Sharma'Shivaaya'
गम देके।
Taj Mohammad
विचार
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
डॉक्टर की दवाई
Buddha Prakash
'बेवजह'
Godambari Negi
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
मजदूर बिना विकास असंभव ..( मजदूर दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
तारीफ़ क्या करू तुम्हारे शबाब की
Ram Krishan Rastogi
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
✍️"अग्निपथ-३"...!✍️
'अशांत' शेखर
मां ने।
Taj Mohammad
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
शांत वातावरण
AMRESH KUMAR VERMA
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
हाथ में खंजर लिए
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
✍️गलती ✍️
Vaishnavi Gupta
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
मैं तुझको इश्क कर रहा हूं।
Taj Mohammad
बाबा अब जल्दी से तुम लेने आओ !
Taj Mohammad
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
बेजुबान
Dhirendra Panchal
सरल हो बैठे
AADYA PRODUCTION
*राजनीति में बाहुबल का प्रशिक्षण (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...