Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2022 · 1 min read

कभी – कभी ………

कभी-कभी समझ नहीं पाता मैं आईना देखकर ,
की मैं , मैं हूँ या की , मुझमे तुम हो ||

2 Likes · 1 Comment · 62 Views
You may also like:
इश्क
Anamika Singh
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
गीत
शेख़ जाफ़र खान
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
रावणदहन
Manisha Manjari
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
Green Trees
Buddha Prakash
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
पिता
Neha Sharma
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
अपनी हर श्वास को
Dr fauzia Naseem shad
बेरूखी
Anamika Singh
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
Loading...