Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2021 · 2 min read

” कभी -कभी हम अपनों को भी आहत करते हैं “

डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
===========================
इन यंत्रों का कमाल तो देखिया …फेसबुक के रंगमंच पर एकबार हमारे पाँव क्या जम गए …हम तो ‘अंगद ‘ बन गए ..!….आखिर यह तो हमारा अपना ‘रणक्षेत्र ‘ .है …..हम इसके धनुर्धर हैं ! ……हमें कौन रोक सकता हैं ….?…कौन टोक सकता है ..? …..अपने अस्त्र और शस्त्रों को हम अपने गांडीव में ही रखना जानते हैं ..इसके प्रयोग की कला तो हमने सीखी ही नहीं ..और ना ही स्वतः प्रयत्न ही किया !…… लोगों के अस्त्रों को चुराकर फेसबुक के रणक्षेत्र पर आक्रमण करते रहते हैं …मित्रों की सूची बड़ी लम्बी बन गयी है ! …..हमारे प्रहारों को झेलें अथवा ना झेलें ..या रणक्षेत्र छोड़ भाग जाएँ ..हमें क्या ?..यह फेसबुक के पन्ने जो हमारे हैं ..वो हमारे ही हैं ! ….भले हम विदूषक बनके अपने ही ताल पर नाचते रहें ..सारे दर्शक हमारी अवहेलना ही क्यों न करे ..पर हम नाचेंगे ..गायेंगे ….और ….वेढंग पोस्टों से लोगों को आहत करते रहेंगे …! …मित्र बनना आसान है पर इसके साथ हमें मनोविज्ञानिक विश्लेषक भी बनना होगा ! ……अपने फेसबुक के पन्नो पर ‘भांगड़ा ‘करें …कत्थक नृत्य करें …कोई फर्क नहीं पड़ता .है ,.परंच इसी प्रक्रिया को जब हम massenger और whatsapp पर लगातार दुहराते हैं ..तो हम मनोविज्ञानिक विश्लेषण के आभाव में अपने मित्रों की पसंद को अनदेखी कर देते हैं …हमारे पास ऐसे -ऐसे मांगे हुए अस्त्रों का जखीरा है ..उसे हमारे मित्र सह नहीं पाते ! …. हमने सहस्त्रों मित्रों को messenger और whats app पर जोड़कर रखा है !..पर इन्हीं कारणों से हमारे पोस्टों को पढ़ते नहीं ..सिर्फ उसे मिटा देते हैं ! हम जब इन बातों को समझ नहीं पाते और messenger और whats app में तंग करना प्रारंभ कर देते हैं तो आहत होकर हमें ब्लाक कर देतें हैं !..हमने तो अब सोच रखा है ..अपने ही फेसबुक के टाइम लाइन पर अपना ‘ लोक नृत्य ‘ करेंगे ..लोगों को आहत ना करेंगे !
==============
डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
डॉक्टर’स लेन
दुमका
झारखण्ड
भारत

Language: Hindi
Tag: लेख
2 Likes · 1 Comment · 260 Views
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-502💐
💐प्रेम कौतुक-502💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*तुम साँझ ढले चले आना*
*तुम साँझ ढले चले आना*
Shashi kala vyas
हजारों  रंग  दुनिया  में
हजारों रंग दुनिया में
shabina. Naaz
हर चीज से वीरान मैं अब श्मशान बन गया हूँ,
हर चीज से वीरान मैं अब श्मशान बन गया हूँ,
Aditya Prakash
हमारी
हमारी "इंटेलीजेंसी"
*Author प्रणय प्रभात*
#एउटा_पत्रकारको_परिचय
#एउटा_पत्रकारको_परिचय
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
बेटी की विदाई
बेटी की विदाई
प्रीतम श्रावस्तवी
लक्ष्मी बाई [एक अमर कहानी]
लक्ष्मी बाई [एक अमर कहानी]
Dheerendra Panchal
तुमको ख़त में क्या लिखूं..?
तुमको ख़त में क्या लिखूं..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मित्र भाग्य बन जाता है,
मित्र भाग्य बन जाता है,
Buddha Prakash
2023
2023
AJAY AMITABH SUMAN
अज़ीब था
अज़ीब था
Mahendra Narayan
*मामूली आदमी (कुंडलिया)*
*मामूली आदमी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दिसंबर
दिसंबर
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
यही हमारा है धर्म
यही हमारा है धर्म
gurudeenverma198
जिसकी फितरत वक़्त ने, बदल दी थी कभी, वो हौसला अब क़िस्मत, से टकराने लगा है।
जिसकी फितरत वक़्त ने, बदल दी थी कभी, वो हौसला...
Manisha Manjari
//स्वागत है:२०२२//
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
निज स्वार्थ ही शत्रु है, निज स्वार्थ ही मित्र।
निज स्वार्थ ही शत्रु है, निज स्वार्थ ही मित्र।
श्याम सरीखे
भारत की स्वतंत्रता का इतिहास
भारत की स्वतंत्रता का इतिहास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वक्त वक्त की बात है 🌷🌷
वक्त वक्त की बात है 🌷🌷
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
चुनावी हथकंडे
चुनावी हथकंडे
Shekhar Chandra Mitra
जज़्बा क़ायम जिंदगी में
जज़्बा क़ायम जिंदगी में
Satish Srijan
ज़िंदगी के सारे पृष्ठ
ज़िंदगी के सारे पृष्ठ
Ranjana Verma
बुझी राख
बुझी राख
Vindhya Prakash Mishra
Samay  ka pahiya bhi bada ajib hai,
Samay ka pahiya bhi bada ajib hai,
Sakshi Tripathi
आज की प्रस्तुति: भाग 7
आज की प्रस्तुति: भाग 7
Rajeev Dutta
बस तेरी सोच पर
बस तेरी सोच पर
Dr fauzia Naseem shad
7…अमृत ध्वनि छन्द
7…अमृत ध्वनि छन्द
Rambali Mishra
Li Be B
Li Be B
Ankita Patel
Loading...