Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

कभी-कभी आते जीवन में…

कभी-कभी आते जीवन में,
ऐसे सुखकर पल।
झूम-झूम उठता मन, जैसे
आवारा बादल।

निज अस्तित्व खोज में मानव,
दिनभर चला चले।
रोज निकलता सूरज जैसे,
जैसे रोज ढले।
आस बँधाती आकर जग को,
शुभ्र किरण चंचल।
कभी-कभी …..

बहुत दिनों के बाद कभी यूँ,
दो प्रेमी मिलते।
उमड़ता नेह, पुष्प खुशी के,
मन-मानस खिलते।
बातें करते चलते, जाते
कितनी दूर निकल।
कभी-कभी……

पूर्ण चंद्र को देख गगन में,
सागर-ज्वार उठे।
रूप पान कर रिदय तृप्त हो,
तब ही वेग घटे।
पा संस्पर्श रवि-रश्मियों का
खिलते ज्यों शतदल
कभी-कभी…..

बाँध टकटकी प्यासा चातक,
तकता स्वाति-नखत।
चकोर शशि का रूप निहारे,
चाहे उसे फ़क़त।
तोड़ बंध मिलने सागर से,
बहती नदी विकल।
कभी-कभी……

झलक प्रिय की जरा दिखे तो,
मन झूमे-नाचे।
ओझल होते ही छवि उसकी,
गुण उसके बाँचे।
खुशबू से आँगन भर जाता,
खुशियों से आँचल।
कभी-कभी…..

जीवन एक सफर है जिसमें,
कदम-कदम काँटे।
सुख की कलियाँ, गम के बदरा
भाग्य-चक्र बाँटे।
मिलते यहाँ सुजन कुछ, जिनसे
मिलता ज्ञान विरल।

कभी-कभी आते जीवन में,
ऐसे सुखकर पल।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद ( उ.प्र.)
“काव्य अक्षत” से

4 Likes · 2 Comments · 126 Views
You may also like:
पिता
Neha Sharma
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
सुन्दर घर
Buddha Prakash
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
धन्य है पिता
Anil Kumar
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
Loading...