Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#1 Trending Author
May 20, 2022 · 1 min read

कभी कभी।

कभी कभी ये दर्द जुदाई का उठता है।
यूं दिल के अंदर जो चुपचाप रहता है।।

✍✍ताज मोहम्मद✍✍

1 Like · 1 Comment · 60 Views
You may also like:
जिंदगी जब भी भ्रम का जाल बिछाती है।
Manisha Manjari
#15_जून
Ravi Prakash
जीवन जीने की कला, पहले मानव सीख
Dr Archana Gupta
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
राम राज्य
Shriyansh Gupta
टूटे बहुत है हम
D.k Math
उसे कभी न ……
Rekha Drolia
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
✍️स्टेचू✍️
"अशांत" शेखर
मंजिल
AMRESH KUMAR VERMA
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
बहुत हुशियार हो गए है लोग
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
चलो स्वयं से इस नशे को भगाते हैं।
Taj Mohammad
हमलोग
Dr.sima
बारी है
वीर कुमार जैन 'अकेला'
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बहते अश्कों से पूंछो।
Taj Mohammad
मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ..
Rashmi Sanjay
पिता का सपना
श्री रमण
Destined To See A Totally Different Sight
Manisha Manjari
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
* तु मेरी शायरी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आदर्श पिता
Sahil
भ्राता - भ्राता
Utsav Kumar Aarya
माहौल
AMRESH KUMAR VERMA
✍️खुशी✍️
"अशांत" शेखर
कायनात के जर्रे जर्रे में।
Taj Mohammad
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...