Oct 15, 2016 · 1 min read

कब सावन आवे

धूप सुनहरी चलती रहती,
वक्त का दामन थामे |
पर्वत नदियाँ सब सहमे से,
कहते है कब सावन आवे ||
पतझड़ छाया है मन में,
मुस्कान भी धूमिल होती जाती |
जर्जर लम्हे होकर घायल,
कहते है कब सावन आवे ||
एक बूँद पड़ी जब मिटटी पर,
उड़ी महक इस दिल तक |
पल में जीवन झूम उडा,
रहा न ख़ामोशी का पहरा ||
अब रिमझिम वारिश,
धूमिल पत्तो को नहला कर |
पर्वत को सहला कर,
चली झूमती इस दिल को बहला कर ||
– सोनिका मिश्रा

1 Like · 397 Views
You may also like:
લંબાવને 'તું' તારો હાથ 'મારા' હાથમાં...
Dr. Alpa H.
सेक्लुरिजम का पाठ
Anamika Singh
युद्ध हमेशा टाला जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
आरज़ू है बस ख़ुदा
Dr. Pratibha Mahi
मनमीत मेरे
Dr.sima
दिये मुहब्बत के...
अरशद रसूल /Arshad Rasool
🍀🌺प्रेम की राह पर-51🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐नव ऊर्जा संचार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शादी से पहले और शादी के बाद
gurudeenverma198
नई लीक....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
एक दिन यह समझ आना है।
Taj Mohammad
हवाओं को क्या पता
Anuj yadav
ज़ाफ़रानी
Anoop Sonsi
तुम हो
Alok Saxena
अथर्व को जन्म दिन की शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता !
Kuldeep mishra (KD)
साथी संग तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
चिन्ता और चिता में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
सिपाही
Buddha Prakash
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
हमारी ग़ज़लों पर झूमीं जाती है
Vinit Singh
चेहरा अश्कों से नम था
Taj Mohammad
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
मेरे पापा जैसे कोई नहीं.......... है न खुदा
Nitu Sah
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
Loading...