Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-374💐

कब तक हमें वो ख़ामोशतर ही करेंगे,
बर्बाद को क्या आलम-ए-बर्बाद करेंगे,
तकल्लुफ़ नहीं हो तो हाथ ही हिला दो,
मरते दम तक सुनो,यही फ़रियाद करेंगे।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
44 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
आत्मा को ही सुनूँगा
आत्मा को ही सुनूँगा
राहुल द्विवेदी 'स्मित'
*बूढ़े होने पर भी अपनी बुद्धि को तेज रखना चाहते हैं तो अपनी
*बूढ़े होने पर भी अपनी बुद्धि को तेज रखना चाहते हैं तो अपनी
Shashi kala vyas
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
Chunnu Lal Gupta
अबला नारी
अबला नारी
Buddha Prakash
कर ले प्यार
कर ले प्यार
Satish Srijan
सावन मंजूषा
सावन मंजूषा
Arti Bhadauria
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
Seema Verma
ठोकर भी बहुत जरूरी है
ठोकर भी बहुत जरूरी है
Anil Mishra Prahari
चलो चलें दूर गगन की ओर
चलो चलें दूर गगन की ओर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अलविदा कहने से पहले
अलविदा कहने से पहले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"अभिव्यक्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
तंज़ीम
तंज़ीम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐अज्ञात के प्रति-9💐
💐अज्ञात के प्रति-9💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Samay  ka pahiya bhi bada ajib hai,
Samay ka pahiya bhi bada ajib hai,
Sakshi Tripathi
वो क़ुदरत का दिया हुआ है,
वो क़ुदरत का दिया हुआ है,
*Author प्रणय प्रभात*
"रात का मिलन"
Ekta chitrangini
हक़ीक़त का आईना था
हक़ीक़त का आईना था
Dr fauzia Naseem shad
जीवन की गाड़ी
जीवन की गाड़ी
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
अनमोल घड़ी
अनमोल घड़ी
Prabhudayal Raniwal
माँ तेरे चरणों मे
माँ तेरे चरणों मे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
Dilip Kumar
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पत्तों से जाकर कोई पूंछे दर्द बिछड़ने का।
पत्तों से जाकर कोई पूंछे दर्द बिछड़ने का।
Taj Mohammad
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
डाला है लावा उसने कुछ ऐसा ज़बान से
डाला है लावा उसने कुछ ऐसा ज़बान से
Anis Shah
क्या करें वे लोग?
क्या करें वे लोग?
Shekhar Chandra Mitra
*भरा हुआ सबके हृदयों में, सबके ही प्रति प्यार हो (गीत)*
*भरा हुआ सबके हृदयों में, सबके ही प्रति प्यार हो (गीत)*
Ravi Prakash
कब तक इंतजार तेरा हम करते
कब तक इंतजार तेरा हम करते
gurudeenverma198
माँ से बढ़कर नहीं है कोई
माँ से बढ़कर नहीं है कोई
जगदीश लववंशी
याद  में  ही तो जल रहा होगा
याद में ही तो जल रहा होगा
Sandeep Gandhi 'Nehal'
Loading...