Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

कब तक पीर छुपाएं सैनिक

*गीतिका*
कब तक पीर छुपाएं सैनिक, कब तक रक्त गिरायें।
विलखाती व्याकुल घाटी की, कब तक व्यथा छुपायें।
निकल रहे बरसाती मेंढक, निज औकात बताकर।
दूध- मुखी विष-कुंभों को हम, कितना अब समझायें।
शरण पा रहे फनधर कितने, घर में बिल खुदवाकर।
बार बार डसते रहते हम, क्यों ना फन कुचलायें।
बोल रहे दुश्मन की बोली, घात लगाये बैठे।
रक्षा में तत्पर सैनिक पर ,क्यों पत्थर बरसायें।
जो अक्सर देते थे’ सफाई , उठा आवरण मुख से।
मानवता के वैरी के, मरने पर शोक मनायें।
जहाँ राष्ट्र ध्वज अपमानित हो, देश भक्त को गाली।
वहाँ राष्ट्र के जन साधारण, क्यों ना शस्त्र उठायें।
जिस दिन मरते हैं आतंकी, शौर्य दिवस वो होगा।
क्यों न भारती हो हर्षित, फिर उत्सव यहाँ मनायें।
आतंकी की मृत्यु ‘इषुप्रिय’, काला दिवस वहाँ पर।
ऐसे काले दिवस भले ही, निसदिन आते जायें।
ओज तेज अतिबल से मण्डित, राष्ट्र भक्त सेनानी।
गद्दारों की बलि चढकर वे, कब तक प्राण गँवायें।

अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

3 Comments · 361 Views
You may also like:
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
दया करो भगवान
Buddha Prakash
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
प्यार
Anamika Singh
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
क्या ज़रूरत थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Neha Sharma
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
पहचान...
मनोज कर्ण
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
गीत
शेख़ जाफ़र खान
Loading...