Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-366💐

कबूतर पाल लिया है अब दाना खिलाओ,
हमें दिल में रख लिया है, वादा निभाओ,
बिल्ली पाल लो अपने ख़्यालों की सुनो,
हमें भी मुस्कुराने दो,तुम भी मुस्कुराओ।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
45 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
कितने इनके दामन दागी, कहते खुद को साफ।
कितने इनके दामन दागी, कहते खुद को साफ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
तुम क्या चाहते हो
तुम क्या चाहते हो
gurudeenverma198
वही दरिया के  पार  करता  है
वही दरिया के पार करता है
Anil Mishra Prahari
पुस्तकों से प्यार
पुस्तकों से प्यार
surenderpal vaidya
किसका चौकीदार?
किसका चौकीदार?
Shekhar Chandra Mitra
■ मंगलकामनाएं
■ मंगलकामनाएं
*Author प्रणय प्रभात*
"प्यासा"प्यासा ही चला, मिटा न मन का प्यास ।
Vijay kumar Pandey
रामनवमी
रामनवमी
Ram Krishan Rastogi
माँ
माँ
Er Sanjay Shrivastava
ज़िन्दगी तुमको ढूंढ ही लेगी
ज़िन्दगी तुमको ढूंढ ही लेगी
Dr fauzia Naseem shad
ठहराव नहीं अच्छा
ठहराव नहीं अच्छा
Dr. Meenakshi Sharma
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐प्रेम कौतुक-365💐
💐प्रेम कौतुक-365💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम सब में एक बात है
हम सब में एक बात है
Yash mehra
मेरी सफर शायरी
मेरी सफर शायरी
Ms.Ankit Halke jha
इतनी सी बात पे
इतनी सी बात पे
Surinder blackpen
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
मार्शल आर्ट
मार्शल आर्ट
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रश्न –उत्तर
प्रश्न –उत्तर
Dr.Priya Soni Khare
".... कौन है "
Aarti sirsat
किस्मत की लकीरें
किस्मत की लकीरें
डॉ प्रवीण ठाकुर
Love is like the wind
Love is like the wind
Vandana maurya
After becoming a friend, if you do not even talk or write tw
After becoming a friend, if you do not even talk or write tw
DrLakshman Jha Parimal
गदगद समाजवाद है, उद्योग लाने के लिए(हिंदी गजल/गीतिका)
गदगद समाजवाद है, उद्योग लाने के लिए(हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
आज सबको हुई मुहब्बत है।
आज सबको हुई मुहब्बत है।
सत्य कुमार प्रेमी
कुछ दर्द।
कुछ दर्द।
Taj Mohammad
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
Shivkumar Bilagrami
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
समुन्दर-सा फासला है तेरे मेरे दरमियाँ,
समुन्दर-सा फासला है तेरे मेरे दरमियाँ,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
पिता मेंरे प्राण
पिता मेंरे प्राण
Arti Bhadauria
Loading...