Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 14, 2017 · 1 min read

कफस में फड़फड़ाईं बेटियां

वज्न-2212 2212 2212 2212 2212
अरकान-मुसतफ़इलुन्*4
बह्र-रजज़ मुसम्मन सालिम

महका हुआ है मेरा आंगन जब से आईं बेटियां।
जैसे चुरा के फूलों की खुशबू को लाईं बेटियां ।।

घर का मेरे ये कोना-कोना हो रहा गुलज़ार क्यूं।
आया समझ में अब कि घर में खिलखिलाईं बेटियां।।

इमदाद जब कुछ न मिली उम्मीद मेरी खो गयी।
फिर फोड़ अपनी गुल्लकें पैसे ले आईं बेटियां।।

अब ये नया सा दौर है कीमत लिबासों की बहुत।
मुझ पे नही जॅचता है ये देतीं सफाईं बेटियां ।।

मेरा तआर्रूप कुछ नही इक अदना सा इंसान हूं।
मेरी कराती है ज़हां में अब बड़ाईं बेटिया ।।

लो बचपना बीता लगीअब बंदिशों की बेड़ियां।
जैसे परिंदा हो क़फ़स में फड़फड़ाईं बेटियां।।

माॅ-बाप करते उम्र भर जब राज उनके ही दिलों में।
फिर जाने किसने कह दिया होती पराईं बेटियां।।

अल्फ़ाज़ है बे रंग मेरे ये क़लम बेदम “अनीश”।
जब रूखसती के वक़्त बाहों में समाईं बेटियां।।

1 Like · 1 Comment · 332 Views
You may also like:
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पंचशील गीत
Buddha Prakash
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
इंतजार
Anamika Singh
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
पहचान...
मनोज कर्ण
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
मेरी लेखनी
Anamika Singh
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
मेरे पापा
Anamika Singh
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
Loading...