Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

— कपड़े और चेहरे —

कपडे और चेहरे
अक्सर झूठ बोल दिया करते हैं
इंसान की असलियत तो
वकत ब्यान कर देता है !!

पहरावा कितना बढ़िया हो
लोग चेहरे पर नकाब ओढ़ लेते हैं
वक्त के तकाजे से वो सब
मजबूर हो जाया करते हैं !!

वकत से भला क्या छुपा है
जो सब झूठ बोल देते हैं
झूठ को याद रखना पड़ता है
जबकि सत्य से सब मुंह फेर लेते हैं !!

कपड़े और चेहरे से नकाब उठाओ
वकत की धारा संग बहते जाओ
आये बड़े बड़े शूर वीर योध्हा यहाँ
सब वकत की मार से तिलमिलाए !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

1 Like · 1 Comment · 152 Views
You may also like:
"मैं फ़िर से फ़ौजी कहलाऊँगा"
Lohit Tamta
✍️"अग्निपथ-३"...!✍️
"अशांत" शेखर
आईना हम कहाँ
Dr fauzia Naseem shad
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
Ram Krishan Rastogi
इतना न कर प्यार बावरी
Rashmi Sanjay
💐💐धर्मो रक्षति रक्षित:💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता
Neha Sharma
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
ऐ वतन!
Anamika Singh
हिंदी दोहे बिषय-मंत्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ज़िंदगी बे'जवाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
✍️आझादी की किंमत✍️
"अशांत" शेखर
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नाथूराम गोडसे
Anamika Singh
विभाजन की व्यथा
Anamika Singh
चतुर्मास अध्यात्म
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Religious Bigotry
Mahesh Ojha
द्विराष्ट्र सिद्धान्त के मुख्य खलनायक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बिल्ली हारी
Jatashankar Prajapati
✍️कालचक्र✍️
"अशांत" शेखर
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हो गयी आज तो हद यादों की
Anis Shah
जीवनदाता वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
✍️किस्मत ही बदल गयी✍️
"अशांत" शेखर
पिता
Surabhi bharati
मेरा दिल गया
Swami Ganganiya
*रठौंडा मन्दिर यात्रा*
Ravi Prakash
मत करना
dks.lhp
साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...