Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 18, 2016 · 1 min read

कपकपाते हैं हाथ मेरे..

कपकपाते हैं हाथ मेरे,
जब लिखता हूँ तुम्हारे बारे में
याद आते हैं वो जख़्म गहरे,
जब लिखता हूँ तुम्हारे बारे में

सूखने लगती हैं मेरी कलम की स्याही,
जब लिखता हूँ तुम्हारे बारे में
पूछने लगती हैं तुम्हारी माई,
जब लिखता हूँ तुम्हारे बारे में

तुम्हारी पत्नी रूठने लगती हैं,
जब लिखता हूँ तुम्हारे बारे में
किसी की मंगनी टूटने लगती हैं,
जब लिखता हूँ तुम्हारे बारे में

मैं शर्मिंदा होने लगता हूँ,
जब लिखता हूँ तुम्हारे बारे में
कुछ मासूमों पर रोने लगता हूँ,
जब लिखता हूँ तुम्हारे बारे में…

(वीर शहीदों को समर्पित)

– © नीरज चौहान

202 Views
You may also like:
लता मंगेशकर
AMRESH KUMAR VERMA
प्रेम
Dr.sima
गांव का भोलापन ना रह गया है।
Taj Mohammad
✍️इश्तिराक✍️
"अशांत" शेखर
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*भक्त प्रहलाद और नरसिंह भगवान के अवतार की कथा*
Ravi Prakash
उपज खोती खेती
विनोद सिल्ला
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
“NEW ABORTION LAW IN AMERICA SNATCHES THE RIGHT OF WOMEN”
DrLakshman Jha Parimal
मेरी राहे तेरी राहों से जुड़ी
Dr. Alpa H. Amin
रिश्तों की बदलती परिभाषा
Anamika Singh
हृदय का सरोवर
सुनील कुमार
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
एक पिता की जान।
Taj Mohammad
अदम्य जिजीविषा के धनी श्री राम लाल अरोड़ा जी
Ravi Prakash
वक्त दर्पण दिखा दे तो अच्छा ही है।
Renuka Chauhan
रिश्तो में मिठास भरते है।
Anamika Singh
आया जो,वो आएगा
AMRESH KUMAR VERMA
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
सुरज दादा
Anamika Singh
परेशां हूं बहुत।
Taj Mohammad
बरसात आई है
VINOD KUMAR CHAUHAN
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr. Alpa H. Amin
यही है भीम की महिमा
Jatashankar Prajapati
इश्क ए उल्फत।
Taj Mohammad
इन्तिजार तुम करना।
Taj Mohammad
सपनों का महल
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
कलम बन जाऊंगा।
Taj Mohammad
"एक नई सुबह आयेगी"
पंकज कुमार "कर्ण"
Loading...