Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
Apr 28, 2022 · 1 min read

कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]

इसकी हर एक शब्द पर पापा,
जाने कितनी मौत मैं मरती हूँ।
शरीर तो रहता हैं, पापा
पर आत्मा वहीं दफन हो जाता।

आप कहते हो मेरे पापा,
नया घर बसाओ तुम ।
अपने प्यार और विश्वास से,
सबके दिल में जगह बनाओ तुम।

जो बीत गई सो बात गई,
अब आगे को बढ जाओ तुम।
जीवन की हर खुशियों से,
नया संसार सजाओ तुम।

मैं पूछती हूँ मेरे पापा
ऐसा कैसे हो सकता है!
क्या टूटी-फूटी नींव पर
कोई महल बन सकता है!

मैं फिर आपसे पूछती पापा,
क्या बिना जड़ के कोई पेड़
पनपता है !
क्या अपने जड़ को भूलकर,
वह आसमान की ओर उठता है!

~अनामिका

5 Likes · 93 Views
You may also like:
अजनबी
Dr. Alpa H. Amin
समय..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
【7】** हाथी राजा **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मंजिल की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
हमदर्द कैसे-कैसे
Shivkumar Bilagrami
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दिल की सुनाएं आप जऱा लौट आइए।
सत्य कुमार प्रेमी
सूरज काका
Dr Archana Gupta
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
हम हर गम छुपा लेते हैं।
Taj Mohammad
चांदनी में बैठते हैं।
Taj Mohammad
मेरी मोहब्बत की हर एक फिक्र में।
Taj Mohammad
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण
Where is Humanity
Dheerendra Panchal
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार "कर्ण"
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
✍️एक चूक...!✍️
"अशांत" शेखर
आशाओं के दीप.....
Chandra Prakash Patel
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
इस शहर में
Shriyansh Gupta
वो
Shyam Sundar Subramanian
# मां ...
Chinta netam " मन "
रात गहरी हो रही है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बालू का पसीना "
Dr Meenu Poonia
और मैं .....
AJAY PRASAD
* फितरत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️स्त्रोत✍️
"अशांत" शेखर
महिलाओं वाली खुशी "
Dr Meenu Poonia
Loading...