Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 3, 2022 · 1 min read

कड़वा सच

हर कोई अपने आप से दिन रात लड़ रहा है
पतझड़ में पादप के पत्ते सा झड़ रहा है

94 Views
You may also like:
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
आ तुझको तुझ से चुरा लू
Ram Krishan Rastogi
""वक्त ""
Ray's Gupta
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
अपनी भाषा
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
पुस्तक समीक्षा
Rashmi Sanjay
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बंकिम चन्द्र प्रणाम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
किस्मत ने जो कुछ दिया,करो उसे स्वीकार
Dr Archana Gupta
✍️सब खुदा हो गये✍️
"अशांत" शेखर
हिंसा की आग 🔥
मनोज कर्ण
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
अजनबी
Dr. Alpa H. Amin
मांडवी
Madhu Sethi
हम हर गम छुपा लेते हैं।
Taj Mohammad
दीप तुम प्रज्वलित करते रहो।
Taj Mohammad
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सम्मान की निर्वस्त्रता
Manisha Manjari
महिला काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
Touching The Hot Flames
Manisha Manjari
पिता
Santoshi devi
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता
Dr.Priya Soni Khare
" मां भवानी "
Dr Meenu Poonia
#15_जून
Ravi Prakash
'तुम भी ना'
Rashmi Sanjay
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
तुम्हारा हर अश्क।
Taj Mohammad
खुदा भेजेगा ज़रूर।
Taj Mohammad
Loading...