Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 17, 2022 · 1 min read

कच्चे आम

हम सभी यार
चल पड़े एक साथ
कच्चे आम खाने
पुराने बगिया के पास।

कड़ी धूप में दौड़ते-भागते
गला सूख गया सबका
आम खाने की चाहत में
फिर भी दौड़ते रहे।

पहुंचे जब हम बगिया के पास
देखा खड़ा था एक चौकीदार
तुरंत हम पीछे की तरफ भागे
कुदते-फादंते दीवार के पार

तुरंत पेड़ पर पत्थर मारा
टूट कर गिरे कई आम
तब सबने मिलकर आम चखा
आधे कच्चे आधे पक्के आम।

93 Views
You may also like:
'माँ मुझे बहुत याद आती हैं'
Rashmi Sanjay
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कारण के आगे कारण
सूर्यकांत द्विवेदी
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
डर
"अशांत" शेखर
वापस लौट नहीं आना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता
Ram Krishan Rastogi
👌स्वयंभू सर्वशक्तिमान👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इन्तिजार तुम करना।
Taj Mohammad
जीवन मे कभी हार न मानों
Anamika Singh
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्या प्रात है !
Saraswati Bajpai
चलो जहाँ की रूसवाईयों से दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
मंजिल
AMRESH KUMAR VERMA
परिकल्पना
संदीप सागर (चिराग)
विसाले यार ना मिलता है।
Taj Mohammad
न्याय
Vijaykumar Gundal
A pandemic 'Corona'
Buddha Prakash
पिता
Arvind trivedi
देखो हाथी राजा आए
VINOD KUMAR CHAUHAN
माँ
Dr Archana Gupta
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
आईनें में सूरत।
Taj Mohammad
साथी क्रिकेटरों के मध्य "हॉलीवुड" नाम से मशहूर शेन वॉर्न
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कभी कभी।
Taj Mohammad
तुझसे रूठ कर
Sadanand Kumar
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
मुकरियां __नींद
Manu Vashistha
सद्आत्मा शिवाला
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...