Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कई प्रकार के ‘राष्ट्रनिर्माता’ !

ये पंचायत शिक्षक, प्रखंड शिक्षक, बेसिक ग्रेड शिक्षक, स्नातक ग्रेड शिक्षक, माध्यमिक शिक्षक, उच्चतर माध्यमिक शिक्षक, सहायक शिक्षक, जगन्नाथ मिश्रा के टीचर, लालू के बीपीएससीवाले शिक्षक, नीतीश के टीचर, पारा टीचर, नगर शिक्षक, नगर पंचायत शिक्षक, नगर निगम टीचर, नगर परिषद टीचर, ज़िला परिषद टीचर, 34540 टाइप्ड टीचर, सुप्रीम कोर्ट वाले हाइस्कूल टीचर, प्लस टू टीचर, वन टू फाइव टीचर, सिक्स टू एट टीचर, टीईटी टीचर, दक्षता पास टीचर, दक्षता फेल टीचर, 2006 वाले टीचर, 2008 वाले टीचर, 2012 वाले टीचर, 1993 वाले टीचर, 1999 वाले स्पेशल टीचर, शिक्षा मित्र, अनट्रेंड टीचर, ट्रेंड टीचर, फ़िजिकल टीचर, सामान्य कोटि शिक्षक, दिव्यांग कोटि शिक्षक, उर्दू शिक्षक, संगीत शिक्षक, कम्प्यूटर टीचर, नियोजित टीचर, चार हज़ारी टीचर, प्रभारी प्रधानाध्यापक, फुल फ्लेजड टीचर, ठेका टीचर, कांट्रेक्ट व संविदा वाले शिक्षक….. इत्यादि प्रकार के ‘पूर्व शिक्षा मंत्री के अनुसार’ बोझ शिक्षक प्राणी केवल बिहार जैसे उज्ज्वल प्रांत में हैं, ऐसे किस टाइप के शिक्षकों को ‘शिक्षक दिवस’ की शुभकामनाएं दूँ, जिनके 14 वर्षों में सरकारी सेवा-शर्त्त नहीं बना है और जिनके वेतन ‘मानदेय’ रूप में भी कई माह से उपलब्ध नहीं हैं तथा जिनके भविष्य खुद अंधकारमय है, वो दूसरे को क्या आलोक करेंगे ? वो बड़े सरकार को इधर तकने की फुरसत कहाँ ? वो तो वर्ल्ड बैंक के ‘सर्व शिक्षा अभियान’ की राशि पर नज़र गड़ाए हैं, वहीं प्रायशः विद्यालयों में लगभग 200 छात्रों में मात्र एक शिक्षक है और नियमावली ऐसी कि छात्रों की तरफ बड़े आँखों से निहारना तक नहीं ! वो थाली निहारते एमडीएम से खाली चाटते हुए बच्चे, कि चावल की बोरी गायब… हेडमास्टर इसी के जोड़-तोड़ और शिक्षाधिकारियों से टांका भिड़ाने में रहते, कभी गंडामन… तो कौन दोषी ? ये सर्वपल्ली साहब यूनिवर्सिटी में रहे, इसतरह के शिक्षक कहाँ रहे ? फिर इस महापुरुष के जन्मदिवस शिक्षक दिवस कैसा ? अगर हुआ भी मनाना, तो भी, बिहार के ये शिक्षक अपने किस पदनाम से ‘शिक्षक दिवस’ मनाएं ? ऐसे में गुरु-गोविंद सामने खड़े हैं, किसको लागूँ पाँव ? सब बेकार ! अभिभावक इन्हें कहते– ‘फटीचर’ और नेता जी कहते– ‘राष्ट्रनिर्माता’….. शिक्षक पुरस्कार में शिक्षाधिकारियों से चापलूस लिए झोलझाल इकट्ठे किए को अवार्ड !

2 Likes · 151 Views
You may also like:
मैं समंदर के उस पार था
Dalveer Singh
कितनी सुंदरता पहाड़ो में हैं भरी.....
Dr.Alpa Amin
✍️निज़ाम✍️
'अशांत' शेखर
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
जिन्दगी से शिकायत न रही
Anamika Singh
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग४]
Anamika Singh
नवजीवन
AMRESH KUMAR VERMA
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
भूल जा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
मैं वट हूँ
Rekha Drolia
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
'%पर न जाएं कम % योग्यता का पैमाना नहीं है'
Godambari Negi
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
'हाथी ' बच्चों का साथी
Buddha Prakash
योगा
Utsav Kumar Aarya
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
◆संसारस्य संयोगः अनित्यं च वियोगः नित्य च ◆
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेजुबान जानवर अपने दोस्त
Manoj Tanan
गर जा रहे तो जाकर इक बार देख लेना।
सत्य कुमार प्रेमी
महाराणा प्रताप और बादशाह अकबर की मुलाकात
मोहित शर्मा ज़हन
खुदा तो हो नही सकता –ग़ज़ल
रकमिश सुल्तानपुरी
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
आज फिर
Rashmi Sanjay
फिर भी तुम्हारे लिए
gurudeenverma198
✍️घर में सोने को जगह नहीं है..?✍️
'अशांत' शेखर
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
✍️मैं अपने अंदर हूं✍️
'अशांत' शेखर
मेरा परिवार
Anamika Singh
कुछ गुनाहों की कोई भी मगफिरत ना होती है।
Taj Mohammad
Loading...