Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2022 · 1 min read

कई चेहरे होते है।

एक चेहरे में कई चेहरे होते है।
धोखा मिलने पे पता चलते है।।

जान कर भी सब चुप रहते है।
खुद के हालातों पे बस रोते है।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

2 Comments · 156 Views
You may also like:
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
पल
sangeeta beniwal
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
बेटियों की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरे साथी!
Anamika Singh
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
पिता
Ram Krishan Rastogi
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
दहेज़
आकाश महेशपुरी
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
तेरी ज़रूरत बन जाऊं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...