Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
Jul 16, 2022 · 1 min read

और न साजन तड़पाओ अब तुम

और न तड़पाओ साजन अब तुम,
और करीब में आ जाओ अब तुम।
सावन की यह पहली बरसात है,
बताओ और कहां जाओगे तुम।।

मत पूछो इस दिल में क्या रक्खा है,
बस तेरे ही दिल को छिपा रक्खा है।
चुरा ले न इसे मुझसे कभी कोई,
बड़ी हिफाज़त से इसे छिपा रक्खा है।।

मत जाओ अभी दिल भरा नही,
दिल मेरा जिंदा है अभी मरा नहीं।
अगले सावन में साथ मिले न मिले,
ये बात किसी को भी पता नही।।

सावन में जब बादल बरसता है,
मेरा मन मिलने को तरसता है।
कैसे समझाऊं इस दिल को मैं,
सारा जग देखकर मुझे हंसता है।।

मेरा दिल जला है और न जलाओ तुम,
दिल की लगी अगन को बुझाओ तुम।
कही ये दिल जलकर खाक न हो जाए,
आकर जल्दी इसको बुझाओ अब तुम।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

1 Like · 2 Comments · 250 Views
You may also like:
मेरे भईया हमेशा सलामत रहें
Dr fauzia Naseem shad
कारवाँ:श्री दयानंद गुप्त समग्र
Ravi Prakash
क्यों करूँ नफरत मैं इस अंधेरी रात से।
Manisha Manjari
*आजादी का अमृत महोत्सव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मरने के बाद।
Taj Mohammad
बता कर ना जाना।
Taj Mohammad
कविता
Mahendra Narayan
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
जुबां खामोश रहती है
Anamika Singh
लाख मिन्नते मांगी ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
हलाहल दे दो इंतकाल के
Varun Singh Gautam
तन्हाई के आलम में।
Taj Mohammad
* साहित्य और सृजनकारिता *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अपने और जख्म
Anamika Singh
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
भ्राजक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" शौक बड़ी चीज़ है या मजबूरी "
Dr Meenu Poonia
सावन की बौछार
सिद्धार्थ गोरखपुरी
उसकी सांसों में जान
Dr fauzia Naseem shad
ऐ वतन!
Anamika Singh
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
इन्सान
Seema Tuhaina
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
किताब
Seema Tuhaina
मज़ाक बन के रह गए हैं।
Taj Mohammad
चाँद ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
'रूप बदलते रिश्ते'
Godambari Negi
मुझको मालूम नहीं
gurudeenverma198
Loading...