और कितनी निर्भया ?

निर्भया जिन्दा है
भारत की आवाज़ बनके
वो चिखती कह रही है ,
इन्साप चाहिए इन्साप चाहिए
पर न्याय कब मिलेगी
यहाँ तो कानून अंधा है
और बहरा भी है
फिर क्यो हमसब चुप हैं ?
युवा भारत के उबलते खून को क्या हुआ ?
और कितनी निर्भया
इस जुल्म को सहती रहेगी,
न्याय के लिये तरसती रहेगी
ऐसे असामाजिक तत्व के
आखिर कब खातमा होंगे
या फ़िर लोग हर रोज
बस तमाशा दिखते रहेंगे !
क्यों हमसब अनदेखा कर रहे हैं ?
कैसी जुल्म थमेगी ?
बस पहेली बनी हुई है ,
जो हमारी संस्कृति को कलंकित करती,
समस्या बन चुकी है
आवाज़ उठाने भर से कुछ नहीं होता
हमें सख्त और ससक्त कदम उठाने होंगे
तभी हर रोज हो रही भारत माँ की अनेक निर्भया जैसी साहसी बेटियों की,
जुल्म की शिकार नहीं होगी
°
°
दुष्यंत कुमार पटेल”चित्रांश”

135 Views
You may also like:
उपज खोती खेती
विनोद सिल्ला
*अंतिम प्रणाम ! डॉक्टर मीना नकवी*
Ravi Prakash
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
प्रयास
Dr.sima
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
सच का सामना
Shyam Sundar Subramanian
सालो लग जाती है रूठे को मानने में
Anuj yadav
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बुआ आई
राजेश 'ललित'
कविता क्या है ?
Ram Krishan Rastogi
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
तोड़कर मुझे न देख
अरशद रसूल /Arshad Rasool
परिवार दिवस
Dr Archana Gupta
कायनात के जर्रे जर्रे में।
Taj Mohammad
सुमंगल कामना
Dr.sima
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
हमारे जीवन में "पिता" का साया
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
पिता
Shankar J aanjna
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
【25】 *!* विकृत विचार *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आज तिलिस्म टूट गया....
Saraswati Bajpai
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
एकाकीपन
Rekha Drolia
तुम्हारे जन्मदिन पर
अंजनीत निज्जर
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
दिल तड़फ रहा हैं तुमसे बात करने को
Krishan Singh
सही दिशा में
Ratan Kirtaniya
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
Loading...