Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2022 · 1 min read

औरों को देखने की ज़रूरत

औरों को देखने की
ज़रूरत कभी न हो ।
अपने वजूद की अगर
पहचान खुद बनो ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
11 Likes · 2 Comments · 150 Views
You may also like:
मां
Dr. Rajeev Jain
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
मेरे प्यारे देशप्रेमियों
gurudeenverma198
भूल गयी वह चिट्ठी
Buddha Prakash
अमृत महोत्सव
Mahender Singh Hans
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
*सफलता और असफलता सदा किस्मत से आती है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
तेरी दहलीज़ तक
Kaur Surinder
जूते जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
हिजाब विरोधी आंदोलन
Shekhar Chandra Mitra
जवाब दे न सके
Dr fauzia Naseem shad
चाल कुछ ऐसी चल गया कोई।
सत्य कुमार प्रेमी
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
लक्ष्मी सिंह
बदरवा जल्दी आव ना
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गरीबक जिनगी (मैथिली कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
गर बुरा लगता हूं।
Taj Mohammad
पिता
Dr. Kishan Karigar
अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
जिंदगी की रेस
DESH RAJ
जगत का जंजाल-संसृति
Shivraj Anand
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
हो तुम किसी मंदिर की पूजा सी
Rj Anand Prajapati
वो मेरा हो नहीं सकता
dks.lhp
#udhas#alone#aloneboy#brokenheart
Dalveer Singh
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बुंदेली दोहा:-
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सार संभार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
✍️जिंदगी के अस्ल✍️
'अशांत' शेखर
विश्व मानसिक दिवस
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Loading...