Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 15, 2021 · 2 min read

#औरत#

मैं औरत हूँ।
मैं स्त्री, मैं जननी।
मैं पुरूष बल की पौरस हूँ।
मै औरत हूँ।।

करूँ श्रृंगार तो
रूपवती मेनका हूँ।
काजर डारूँ तो
कजरारी माँ काली हूँ।
साँवली-सलोनी हूँ।
श्वेत हूँ पद्मासना,
मैं शर्बती हूँ।
रूपवती, मैं कामवती।
मैं सती-सावित्री,
पतिव्रता सीता।
मैं कामिनी, मैं दामिनि,
मैं कमालिनी।
मैं सौन्दर्य की प्रतिमूर्ति देवी हूँ।
सर ऊँचा रहे मेरा।
मैं ही शीर्षक हूँ।
मैं औरत हूँ।।

हर्ष-उल्लास हो
या हो दःख-विषाद।
मैं सरल ,मैं स्वच्छन्द।
मैं ज्वाला, मैं प्रचण्ड।
मैं अचल,मैं अविचल।
संकट में अडिग खडी रहती।
रण क्षेत्र में अडी रहती,
मैं रणबांकुरी रानी लक्ष्मी हूँँ।
मैं प्रबल-प्रखरा।
संग-संग चलती सदा।
मैं ही सबके कुर्बत हूँ।
मैं औरत हूँ।।

मैं तरनी,मैं धारा।
मैं सरस,मैं खरा।
मैं लग्नकला,मैं विमला,
मैं परीलता।
कभी चंचलता तो कभी मंद-मंद।
कभी स्थिर तो कभी व्याकुलता।
मैं धीरज-धरनी,
मैं सबला नारी।
मैं तली,मैं बुलन्दी।
हासिल करूँ हर लक्ष्य,
मै हठी।
मैं मेहनतकश,मैं अभेद किला।
अंधेरे में तीर चलाकर,
प्रकाश फैलाऊँ।
उस गांडिव का मैं ही तरकश हूँ।
मैं ही शक्ति,मैं ही कवच हूँ।
मैं औरत हूँ।।

मैं आस्तिक, मैं स्वयमवरा।
मैं सुलोचना, मैं ममता।
मैं अखन्डज्योति,प्रज्वलित प्रवरा।
मैं तल्लीन,मुखर।
मैं कुशाघ्र,कर्मवीरांगना।
बाँह खोलूँ,मैं भुजनी।
नभ समेटूँ, आँचलतले।
मैं जमीं,
मैं ही फलक हूँ।
मैं औरत हूँ।।

मैं तिलकशोभिनी, व्रतशोहिनी।
माथे की चँदनी,
चाँद की चाँदनी।
मैं मनमोहिनी, मंदाकिनी।
मैं जन्मदायिनी माता।
पाँव धरूँ जिस द्वारे,
वास करूँ बनके देवी लक्ष्मी।
हरक्षण धन-धारन करूँ,
मै धनकुबेर की धानी चौखट हूँ।
मैं औरत हूँ।।

••••••• ••••••• •••••••
••••••• ••••••• •••••••
मौलिक व स्वरचित कवि:- Nagendra Nath Mahto.
(गायक,गीतकार, संगीतकार व कवि)
All copyright :- Nagendra Nath mahto .

4 Likes · 8 Comments · 537 Views
You may also like:
ये दिल टूटा है।
Taj Mohammad
अगर नशा सिर्फ शराब में
Nitu Sah
दिया
Anamika Singh
✍️राहे हमसफ़र✍️
'अशांत' शेखर
मुहब्बत भी क्या है
shabina. Naaz
है आया पन्द्रह अगस्त है।।
पाण्डेय चिदानन्द
तिनका तिनका करके।
Taj Mohammad
✍️सलं...!✍️
'अशांत' शेखर
तेरा चलना ओए ओए ओए
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Anis Shah
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
एक पत्नि की मन की भावना
Ram Krishan Rastogi
*स्वर्गीय कैलाश चंद्र अग्रवाल की काव्य साधना में वियोग की...
Ravi Prakash
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
'अशांत' शेखर
एक नारी की वेदना
Ram Krishan Rastogi
महँगाई
आकाश महेशपुरी
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
बड़ी आरज़ू होती है ......................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
इन्तिजार तुम करना।
Taj Mohammad
इश्क की खुशबू।
Taj Mohammad
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक ,...
Subhash Singhai
आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
कोई रिश्ता मुझे
Dr fauzia Naseem shad
"DIDN'T LEARN ANYTHING IF WE DON'T PRACTICE IT "
DrLakshman Jha Parimal
पिता
KAMAL THAKUR
पावस की ऐसी रैन सखी
लक्ष्मी सिंह
* तुम्हारा ऐहसास *
Dr.Alpa Amin
Loading...