Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 30, 2021 · 2 min read

“औरत का घर “

प्रिया ने राज से करीब 13 साल पहले परिवार से बगावत करके शादी की थी अभी उसके दो बच्चे हैं पर कुछ था जो आज प्रिया को बहुत खटक रहा था
उसकी इस शादी मे बहुत उतार चढ़ाव आये पर आज उसने राज का घर छोड़ दिया l
और जब वह अपने मायके आई तो मायके मे उसके मम्मी पापा थे उन्होने प्रिया को समझाया की राज को ऐसा नही करना चाहिए था l घरेलू हिंसा का शिकार हुई थी प्रिया…
जाती भी तो कहा उसके पास तो अपना कहने के लिए उसका मायका ही था सो प्रिया मायके आ गई l
कुछ दिनो तक तो सब ठीक था पर आज उसके बड़े भाई का फ़ोन या तो बाते सुनकर वह दुविधा मे थी उसके भाई ने कहा की मम्मी पापा जब तक हो तब तक देखोगे उसके बाद मे तो नही देखुगा सब अपने परिवार मे व्यस्त हो जायेंगे ये वही भाई है ज़िसकी अभी शादी भी नही हुई ….
प्रिया सोच मे थी की ज़िन लोगो के बारे मे गलत बोलने पर वह अपने पति से लड़ लेती थी आज वही कह रहे है की बहन तू खुद लड़ अपने लिए पति के घर पर रहकर अपने लिए मम्मी पापा कब तक रहेंगे….
प्रिया चाहती तो सब कुछ सहन करके पति के साथ रहती वह तो ये सब 13 सालों से सहन ही कर रही थी पर जब मायके मे बात होने लगी तो प्रिया की बातों मे बगावत थी जो राज से बर्दास्त नही हुई…
प्रिया सोच रही थी की खून के रिश्ता ऐसा भी होता है क्या राखी का कोई मोल नही l
राज ने प्रिया को कहा था की मेरी घर रहना है तो मेरी हिसाब से रहो और जब प्रिया मायके गई तो मम्मी ने फ़ोन करके भाई को बताया की प्रिया तो अभी अपने घर पर है उसके घर से आ गई और प्रिया ये नही समझ पा रही थी की आखिर उसका घर कौन सा है….सच मे औरतो का घर होता ही नही

1 Like · 191 Views
You may also like:
गंगा अवतरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जो बीत गई।
Taj Mohammad
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिंदगी: एक संघर्ष
Aditya Prakash
पिता की याद
Meenakshi Nagar
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं
Krishan Singh
श्रृंगार
Alok Saxena
वृक्ष की अभिलाषा
डॉ. शिव लहरी
मैं भारत हूँ
Dr. Sunita Singh
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
मैं मजदूर हूँ!
Anamika Singh
🌺🌺🌺शायद तुम ही मेरी मंजिल हो🌺🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* साहित्य और सृजनकारिता *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
निद्रा
Vikas Sharma'Shivaaya'
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
अपना लो मुझे अभी...
Dr. Alpa H. Amin
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
नव सूर्योदय
AMRESH KUMAR VERMA
✍️दिल ही बेईमान था✍️
"अशांत" शेखर
नव विहान: सकारात्मकता का दस्तावेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
सेमर
विकास वशिष्ठ *विक्की
सरस्वती कविता
Ankit Halke jha Official's
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धीरे-धीरे कदम बढ़ाना
Anamika Singh
जो देखें उसमें
Dr.sima
खोलो मन की सारी गांठे
Saraswati Bajpai
Loading...