Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-323💐

ओ मेरे दिल की तामीर के मालिक,
सुनो,आओ कभी सर-ए-आम बनो,
जला के पर्दा,बनो मेरे सही ख़ालिक़,
गफ़लत दूर कर, मेरे ख़ुश-नाम बनो।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
45 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
माँ (ममता की अनुवाद रही)
माँ (ममता की अनुवाद रही)
Vijay kumar Pandey
"ଜୀବନ ସାର୍ଥକ କରିବା ପାଇଁ ସ୍ୱାଭାବିକ ହାର୍ଦିକ ସଂଘର୍ଷ ଅନିବାର୍ଯ।"
Sidhartha Mishra
माना के तू बेमिसाल है
माना के तू बेमिसाल है
shabina. Naaz
गम को भुलाया जाए
गम को भुलाया जाए
Dr. Sunita Singh
दिल में आग , जिद और हौसला बुलंद,
दिल में आग , जिद और हौसला बुलंद,
कवि दीपक बवेजा
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
असर-ए-इश्क़ कुछ यूँ है सनम,
असर-ए-इश्क़ कुछ यूँ है सनम,
Amber Srivastava
चँचल हिरनी
चँचल हिरनी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
gurudeenverma198
माना तुम्हारे मुकाबिल नहीं मैं ...
माना तुम्हारे मुकाबिल नहीं मैं ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दर्द पर लिखे अशआर
दर्द पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
बनारस
बनारस
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
कद्रदान
कद्रदान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मालूम है मुझे वो मिलेगा नहीं,
मालूम है मुझे वो मिलेगा नहीं,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
उपहार
उपहार
Satish Srijan
#एक_प्रेरक_प्रसंग-
#एक_प्रेरक_प्रसंग-
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-242💐
💐प्रेम कौतुक-242💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
AJAY PRASAD
भरते थे घर में कभी, गेहूँ चावल दाल ( कुंडलिया )
भरते थे घर में कभी, गेहूँ चावल दाल ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
शिक्षा (Education) (#नेपाली_भाषा)
शिक्षा (Education) (#नेपाली_भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Kbhi asman me sajti bundo ko , barish kar jate ho
Kbhi asman me sajti bundo ko , barish kar jate ho
Sakshi Tripathi
हिडनवर्ग प्रपंच
हिडनवर्ग प्रपंच
मनोज कर्ण
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
प्रकृति को त्यागकर, खंडहरों में खो गए!
विमला महरिया मौज
पीड़ित करती न तलवार की धार उतनी जितनी शब्द की कटुता कर जाती
पीड़ित करती न तलवार की धार उतनी जितनी शब्द की कटुता कर जाती
Nav Lekhika
जूते और लोग..,
जूते और लोग..,
Vishal babu (vishu)
Chubhti hai bate es jamane ki
Chubhti hai bate es jamane ki
Sadhna Ojha
विपक्ष से सवाल
विपक्ष से सवाल
Shekhar Chandra Mitra
चल सजना प्रेम की नगरी
चल सजना प्रेम की नगरी
Sunita jauhari
बाट का बटोही ?
बाट का बटोही ?
Tarun Prasad
"इतिहास गवाह है"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...