Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ऐ मेघ

ऐ मेघ ले – ले जद में अपने
इस समूचे आसमां को
कर दे गर्मी शांत अब तो
उन्माद भरे इस तपिश की

फिर दिखा दे इस जहाँ को
के निकल जाती है गर्मी
तपिश उतनी ही सही
जितनी कोई संभाल पाए

धूप के तेवर को ज़ेवर
पहना दे नम बूंदों की अबतो
धूल की विसात ही क्या
जो उड़ रही है खामखा

हवाओं को भी दे बता के
अधिकार तुझपे है अब मेरा
तूँ जब बहेगी नम बहेगी
अब यही है काम तेरा

पारे को भी दे बता के
अब चढ़ाई न चढ़ सकोगे
आ गए हम हैं जबसे
लाजमी है लुढ़कना तेरा

सूर्य की अठखेलियों पर
बस तनिक अंकुश लगाने
आ जा लेकर कारवाँ
जमकर भिगो दे इस धरा को
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

1 Like · 4 Comments · 97 Views
You may also like:
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
प्रेम
Vikas Sharma'Shivaaya'
कहानी को नया मोड़
अरशद रसूल /Arshad Rasool
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
चेहरा तुम्हारा।
Taj Mohammad
ये दुनियां पूंछती है।
Taj Mohammad
✍️क़ुर्बान मेरा जज़्बा हो✍️
"अशांत" शेखर
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
ज्यादा रोशनी।
Taj Mohammad
उन्हें आज वृद्धाश्रम छोड़ आये
Manisha Manjari
चिड़िया और जाल
DESH RAJ
तुम्हारे हाथों में।
Taj Mohammad
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
नवजीवन
AMRESH KUMAR VERMA
करते रहो सितम।
Taj Mohammad
“ कोरोना ”
DESH RAJ
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
अम्बेडकर जी के सपनों का भारत
Shankar J aanjna
【21】 *!* क्या आप चंदन हैं ? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता
Santoshi devi
सिया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
💐💐प्रेम की राह पर-13💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता का दर्द
Nitu Sah
अनोखा गुलाब (“माँ भारती ”)
DESH RAJ
इंतजार
Anamika Singh
नशामुक्ति (भोजपुरी लोकगीत)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
मोहब्बत
Kanchan sarda Malu
Loading...