Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#5 Trending Author
May 19, 2022 · 1 min read

ऐ जिन्दगी

ऐ जिन्दगी तुम चाहती थी,
मेरी मुस्कुराहट को छिन कर
मुझे घुटनों पर लाना।

मुझे नीचा दिखाना।
बार-बार मुझे सपने दिखाकर
मुझे चोट पहुंचना।
मुझको रूलाना।

पर देखो फिर से मैंने
तुम्हें मात दे दी।
मैंने भी सीख लिया,
दर्द के साथ मुस्कुराना।

अभी तो तुम्हारी और हमारी
यह जंग जारी रहेगी।
यह हार -जीत का खेल
ऐसे ही चलती रहेगी।

यह सफर अभी लंबा है।
देख आगे जीतता है कौन ।
तु कोशिश करती रहो
मुझे रुलाने की।

मै तुम्हारी यह साजिश
मुकम्मल न होने दूंगी।
तु लाख दर्द दे मुझे
फिर भी मै हमेशा मुस्कुराती रहूँगी।

~ अनामिका

5 Likes · 5 Comments · 94 Views
You may also like:
जल की अहमियत
Utsav Kumar Aarya
तुम ही ये बताओ
Mahendra Rai
!! ये पत्थर नहीं दिल है मेरा !!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जग का राजा सूर्य
Buddha Prakash
हमारा दिल।
Taj Mohammad
दिल-ए-रहबरी
Mahesh Tiwari 'Ayen'
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
क़ैद में 15 वर्षों तक पृथ्वीराज और चंदबरदाई जीवित थे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
"साहित्यकार भी गुमनाम होता है"
Ajit Kumar "Karn"
बचपन की यादें
AMRESH KUMAR VERMA
#जातिबाद_बयाना
D.k Math
राम
Saraswati Bajpai
तुम धूप छांव मेरे हिस्से की
Saraswati Bajpai
मैं और मांझी
Saraswati Bajpai
मैं बहती गंगा बन जाऊंगी।
Taj Mohammad
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हंसकर गमों को एक घुट में मैं इस कदर पी...
Krishan Singh
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
संताप
ओनिका सेतिया 'अनु '
ना कर गुरुर जिंदगी पर इतना भी
VINOD KUMAR CHAUHAN
बदलती परम्परा
Anamika Singh
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
सांसें कम पड़ गई
Shriyansh Gupta
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
यही तो मेरा वहम है
Krishan Singh
'बेदर्दी'
Godambari Negi
रत्नों में रत्न है मेरे बापू
Nitu Sah
HAPPY BIRTHDAY SHIVANS
KAMAL THAKUR
Loading...