Oct 21, 2016 · 1 min read

ऐ जिंदगी क्या होगा आगे/मंदीप

ऐ जिंदगी क्या होगा आगे/मंदीप

ऐ जिंदगी तेरी फितरत तो बता,
क्या होगा आगे हल्के से मेरे कानो में बता।

कौन अपना है कौन पराया मुझे एतना तो सीखा,
कौन सही है कौन गलत मुझे इतना तो बता।
ऐ जिंदगी क्या होगा आगे हल्के से मेरे कानो में बता।

ढूढ रहा हूँ अपना ठौर ठिकाना,
आखिर मेरा ठिकाना तो बता
ऐ जिंदगी क्या होगा आगे हल्के से मेरे कानो में बता।

करता था जो साथ जिने मरने की बात,
कहा गया वो मुझे उस का पता तो बता।
ऐ जिंदगी क्या होगा आगे हल्के से मेरे कानो में बता।

हो जाऊ रिहा “मंदीप” इस जहान से,
होगा कैसे मेरा अंत मुझे इतना तो बता।
ऐ जिंदगी क्या होगा आगे हल्के से मेरे कानो में बता।

मंदीपसाई

139 Views
You may also like:
💐💐प्रेम की राह पर-12💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
नारियल
Buddha Prakash
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
* फितरत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*माँ छिन्नमस्तिका 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईश्वर के संकेत
Dr. Alpa H.
शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी
Jatashankar Prajapati
ज़रा सामने बैठो।
Taj Mohammad
जिसके सीने में जिगर होता है।
Taj Mohammad
पापा
Kanchan Khanna
विश्व पुस्तक दिवस
Rohit yadav
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
समुंदर बेच देता है
आकाश महेशपुरी
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
कभी सोचा ना था मैंने मोहब्बत में ये मंजर भी...
Krishan Singh
भारतवर्ष
AMRESH KUMAR VERMA
रे बाबा कितना मुश्किल है गाड़ी चलाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हौसलों की उड़ान।
Taj Mohammad
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
मेरे पापा जैसे कोई....... है न ख़ुदा
Nitu Sah
*कथावाचक श्री राजेंद्र प्रसाद पांडेय 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
राह जो तकने लगे हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
अँधेरा बन के बैठा है
आकाश महेशपुरी
Loading...