Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

ऐ उम्मीद

ऐ उम्मीद! मैं तुमसे छुटकारा चाहता हूँ।
क्योंकि मैं खुश रहना ढेर सारा चाहता हूँ।
तुम न होती तो भावनाएं आहत न होतीं।
किसी से कभी भी कोई चाहत न होती।
मैं खुद के लिए खुद का सहारा चाहता हूँ।
ऐ उम्मीद! मैं तुमसे छुटकारा चाहता हूँ।

मैं नही चाहता फिर से मजबूर हो जाऊँ।
मैं खुद से ही बहुत ज्यादा दूर हो जाऊँ।
मेरी जिंदगी को ऐसे बदलना चाहता हूँ मैं,
कि ताउम्र मैं खुद का गुरुर हो जाऊँ।
मैं जिंदगी में दिलखुश नजारा चाहता हूँ।
ऐ उम्मीद! मैं तुमसे छुटकारा चाहता हूँ।

उम्मीदों के टूटने का गम मुझसे न पूछिए।
कैसा हो जाता है जीवन मुझसे न पूछिए।
उम्मीदें खुद से की होती तो माजरा अलग होता,
उम्मीद कितनी थी खुद से,मुझसे न पूछिए।
उम्मीद से होना अब मैं बेसहारा चाहता हूँ।
ऐ उम्मीद! मैं तुमसे छुटकारा चाहता हूँ।

मेरी उम्मीद खुद से है ,यही तकदीर मेरी है।
मैं खुद का हो चला हूँ अब, यही तासीर मेरी है।
नाउम्मीदी के दौर में जो उम्मीद किया खुदसे,
इसके पीछे मुस्कुराती हुई तस्वीर मेरी है।
मैं खुद के आगे बुरे वक्त को हारा चाहता हूँ।
ऐ उम्मीद! मैं तुमसे छुटकारा चाहता हूँ।
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

2 Likes · 4 Comments · 269 Views
You may also like:
फूल
Alok Saxena
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
दुलहिन परिक्रमा
मनोज कर्ण
बस एक ही भूख
DESH RAJ
किसको बुरा कहें यहाँ अच्छा किसे कहें
Dr Archana Gupta
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
#जंगली फर (चार)....
Chinta netam " मन "
✍️किस्मत ही बदल गयी✍️
"अशांत" शेखर
प्यार
Satish Arya 6800
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
कर तू कोशिश कई....
Dr. Alpa H. Amin
दिल की सुनाएं आप जऱा लौट आइए।
सत्य कुमार प्रेमी
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
धन्य है पिता
Anil Kumar
कुछ काम करो
Anamika Singh
कविता की महत्ता
Rj Anand Prajapati
बरसात आई है
VINOD KUMAR CHAUHAN
ईद
Khushboo Khatoon
कैसे समझाऊँ तुझे...
Sapna K S
संविधान की गरिमा
Buddha Prakash
"राम-नाम का तेज"
Prabhudayal Raniwal
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इश्क ए दास्तां को।
Taj Mohammad
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
बाबा भैरण के जनैत छी ?
श्रीहर्ष आचार्य
चेहरा तुम्हारा।
Taj Mohammad
Loading...