Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 9, 2021 · 1 min read

-ऐसे बनो


हमने ईष्या की ज्वाला में लोगों को जलते देखा,
बदला द्वेष से नफ़रत की वो खींचते रेखा,
बनना है तो ऐसे बनो जैसे शीतल जल होता,

जीवन की राह में सुंदर रंग बिखेरते जाओ,
अपनी चंचल छवि से भविष्य वर्तमान संवारो,
जैसे हो नया सृजन कविता मौलिक इतने बन जाओ,

जीवन खुशियों से जी लो भर कर
बने वो सुखद अतीत,
जैसे तेरा हो कोई सच्चा मीत,

तोड़ो चुप्पी बंधन जैसे रूकता नहीं नया चिंतन,
मन के अंतरकोनो से करो मनन,

जीवन धारा के तेज प्रवाह में
रूको नहीं,करो गमन,
गतिमान बनों जैसे होता समय चलन,

यदि धरती पर चाहते हो स्वर्ग को पाना,
नेह शब्द सागर से गाओ समता का गाना।।

सीमा गुप्ता,अलवर राजस्थान

2 Likes · 1 Comment · 203 Views
You may also like:
प्रकृति का अंदाज.....
Dr.Alpa Amin
Keep faith in GOD and yourself.
Taj Mohammad
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
ह्रदय की व्यथा
Nitesh Kumar Srivastava
श्रृंगार
Alok Saxena
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
जहाँ न पहुँचे रवि
विनोद सिल्ला
✍️कोई इंसान आया..✍️
"अशांत" शेखर
जीएं हर पल को
Dr fauzia Naseem shad
तुम ही ये बताओ
Mahendra Rai
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
" बावरा मन "
Dr Meenu Poonia
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
💐योगं विना मुक्ति: नः💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चाँदनी रातें (विधाता छंद)
HindiPoems ByVivek
दहेज़
आकाश महेशपुरी
प्रेम कथा
Shiva Awasthi
नहीं रहे "कहो न प्यार है" के गीतकार व हरदिल...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पायल
Dr. Sunita Singh
अप्सरा
Nafa writer
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
आदत
Anamika Singh
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
ज़िंदगी बे'जवाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
मतदान का दौर
Anamika Singh
भारत की जाति व्यवस्था
AMRESH KUMAR VERMA
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
Loading...