Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2016 · 2 min read

ऐसा है आज का भारत

बाबा ,नेता सब ने यहाँ
ज़ुल्म और भ्रष्टाचार करके
पा ली है ऊँची सोहरत
ऐसा है आज का भारत ..

तैयार है काले व्यापर करने को
सबको यहाँ पैसे की भुख
अमीर हो या गरीब
सबको चाहिए भौतिक सुख ……

घर बैठे ऐसो आराम मिले
न करना पड़े कभी मेहनत
ऐसा सोचते है आज भी
होगी कोई ईश्वरीय करामत ….

टाल देते है काम लोग यहाँ
ये कहकर ! आज की नहीं है मुहरत
लोग बिन कर्म किये मंदिर, मस्जिद
चले आते है मांगने मन्नत ……….

ईमान की कोई कीमत नहीं
बोल बाला है यहाँ दौलत
पैसा फेंको तमाशा देखो
सबकुछ होता है यहाँ गफलत…..

पुलिस सरकार दोस्त है इनके
घूमते है गुनाहगार यहाँ उन्मुक्त
इन सब हालात देखकर भी
परदे लगा बैठी है अदालत …….

किसी स्टार राज नेता के पीछे
हज़ारो होती है सुरक्षा तैनात
आम आदमी की कोई सुरक्षा नहीं
ये बात भी है सच ……….

देश बदलना चाह रहे है
पर न बदल रहे है फितरत
संस्कृति संस्कार सब भूल रहे है
आधुनिकता के दौड़ में भारत ……

आम आदमी मजदूर किसान को
आज देश में नहीं राहत
नेता जोगी के बदली हुई है तस्वीर
देश में गहराई हुई है मुसीबत………..

मंज़िल तक पंहुचा है सीढ़ी चढ़कर
उस पर भी हो रही है बगावत
स्वतंत्र – लोकतंत्र भारत में आज
पैसे वालो की चलती है हुकुमत ……

गरीबी,बेरोजगारी,भ्रष्टाचार से
आज लत-पत है भारत
जर्जर सड़क भीड़-भाड़ बस
कदम-कदम में है मुसीबत …….

छोटी- छोटी तकरार में भी
किसी का बह जाता है रक्त
क्या ? दौर आया है हैरा हूँ !
मर गई है यहाँ इंसानियत ……

जुल्म की शिकार रोज होती है
हर रोज यहाँ की बेटिया औरत
रात अँधेरे शहर गलियो में
हर रोज यहाँ होती है वारदात ……..

चोर बदमाशो के ससुराल है
रोज आते जाते है हवालात
राजनीति कानून सब भ्र्ष्ट है
तभी तो इतना त्रस्त है भारत …..

जात-पात धर्म मजहब पर
आज भी होते है जहमत
हिन्दू मुस्लिम सीख ईसाई
क्या है यहाँ कोई सहमत ……..

कौन उबरेगा इस परिस्थिति से
ईधर भी फजीहत उधऱ भी फजीहत
किसपे करे आज भरोसा हमसब
यहाँ कौन देने वाला रहमत ……..

यही स्वर्ग है यही है नरक
सोच बदलने की है जरुरत
जब-तक न बदलोगो खुद को
तब-तक न बदलेगा भारत …

कवि : दुष्यंत कुमार पटेल”चित्रांश”

Language: Hindi
Tag: कविता
261 Views
You may also like:
फूल तो सारे जहां को अच्छा लगा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
“ बुजुर्ग और कंप्युटर ”
DrLakshman Jha Parimal
मुकम्मल जहां
Seema 'Tu hai na'
नयी हैं कोंपले
surenderpal vaidya
मेरे जैसा
Dr fauzia Naseem shad
इश्क खूब कर गए हो।
Taj Mohammad
राज का अंश रोमी
Dr Meenu Poonia
◆संसारस्य संयोगः अनित्यं च वियोगः नित्य च ◆
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सोचता हूं कैसे भूल पाऊं तुझे
Er.Navaneet R Shandily
🚩यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो, ऐसा विज्ञान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यह देखो मिट्टी की हटरी (बाल कविता )
Ravi Prakash
कैसा अलबेला इंसान हूँ मैं!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
ऐ चाँद
Saraswati Bajpai
कॉर्पोरेट जगत और पॉलिटिक्स
AJAY AMITABH SUMAN
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
कविता
Rekha Drolia
मानव मूल्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राजू श्रीवास्तव - एक श्रृद्धांजली
Shyam Sundar Subramanian
हम फिर वही थे
shabina. Naaz
कण कण में शंकर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कुछ कहता है सावन
Ram Krishan Rastogi
मैने देखा है
Anamika Singh
कैलेंडर
Shiva Awasthi
असफलता और मैं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
देश के खस्ता हाल
Shekhar Chandra Mitra
कर्म का मर्म
Pooja Singh
लोग कहते हैं कैसा आदमी हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
तिरंगा
आकाश महेशपुरी
वो प्रकाश बन कर आई जिंदगी में
J_Kay Chhonkar
समय को दोष देते हो....!
Dr. Pratibha Mahi
Loading...