Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Apr 2023 · 1 min read

ऐतबार कर बैठा

#अज्ञात..✍️
************
किसी को नफरत है मुझसे तो कोई प्यार कर बैठा है,
किसी को यकीं नहीं मेरा और कोई एतवार किये बैठा है।
कितनी अजीब है ये दुनियां,कोई मिलना नहीं चाहता मुझसे , और कोई इंतज़ार में पलकें बिछाए बैठा है।अजीब होती हैं उल्फत की अदायगी भी ,किसी को बिन मांगे मिल जाती है मोहब्बत,किसी की फरियाद भी किसी काम नहीं आती है।

Language: Hindi
171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बस एक ही भूख
बस एक ही भूख
DESH RAJ
निरक्षता
निरक्षता
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
पिता पच्चीसी दोहावली
पिता पच्चीसी दोहावली
Subhash Singhai
💐प्रेम कौतुक-449💐
💐प्रेम कौतुक-449💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️एक फ़िरदौस✍️
✍️एक फ़िरदौस✍️
'अशांत' शेखर
जर,जोरू और जमीन
जर,जोरू और जमीन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
Dr.Rashmi Mishra
Happy Father Day, Miss you Papa
Happy Father Day, Miss you Papa
संजय संजू
मुझ को अब स्वीकार नहीं
मुझ को अब स्वीकार नहीं
Surinder blackpen
तेरी अबरू लाजवाब है
तेरी अबरू लाजवाब है
Shiv kumar Barman
जो भूलने बैठी तो, यादें और गहराने लगी।
जो भूलने बैठी तो, यादें और गहराने लगी।
Manisha Manjari
यादें
यादें
Johnny Ahmed 'क़ैस'
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / MUSAFIR BAITHA
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
रोग ने कितना अकेला कर दिया
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
रहती है किसकी सदा, मरती मानव-देह (कुंडलिया)
रहती है किसकी सदा, मरती मानव-देह (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मेरी आंखों में
मेरी आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
धरा करे मनुहार…
धरा करे मनुहार…
Rekha Drolia
लौट  आते  नहीं  अगर  बुलाने   के   बाद
लौट आते नहीं अगर बुलाने के बाद
Anil Mishra Prahari
नकलची बच्चा
नकलची बच्चा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सुनो प्रियमणि!....
सुनो प्रियमणि!....
Santosh Soni
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
ruby kumari
【6】** माँ **
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
रक्षाबंधन का त्यौहार
रक्षाबंधन का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
अधरों को अपने
अधरों को अपने
Dr. Meenakshi Sharma
■ मुक़ाबला जारी...।।
■ मुक़ाबला जारी...।।
*Author प्रणय प्रभात*
काश अपना भी कोई चाहने वाला होता।
काश अपना भी कोई चाहने वाला होता।
Taj Mohammad
Success is not final
Success is not final
Swati
सभी मां बाप को सादर समर्पित 🌹🙏
सभी मां बाप को सादर समर्पित 🌹🙏
सत्य कुमार प्रेमी
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
Loading...