Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#15 Trending Author
May 18, 2022 · 1 min read

एहसासों से हो जिंदा

जब नहीं ले सकते फैसला,
खुद के जीवन का ;
क्यों किसी के फैसले में,
फासले बन जाते हो ।

जब कर नहीं सकते हो ,
प्यार किसी को ;
क्यों किसी के प्यार के ,
दुश्मन बन बैठे हो ।

जब बयांँ नहीं कर सकते हो ,
अपने दर्द का एहसास जीवन में ;
क्यों किसी के एहसासों की तरंगे ,
छेड़कर दर्द जगा देते हो ।

जब दे नहीं सकते हो ,
अपनों का साथ जीवन में ;
क्यों साथ जीवन में ,
दूसरों को नहीं देने देते हो ।

जब खुद नहीं लड़ सकते हो,
अपने हक की लड़ाई;
क्यों किसी को अपने हक के लिए ,
जूझने वालों को रोकते हो ।

जब स्वयं रह जाते हो तन्हाई में,
अकेले अपनी दुनिया में जीते हो ;
क्यों नहीं उन्हें उनकी दुनिया में ,
तन्हा औरों को जीने देते हो ।

जब तुम एक इंसान हो ,
अपने एहसासों से हो जिंदा ;
क्यों नहीं जिंदा एहसासों के संग ,
जीने वालों को जिंदादिल रहने देते हो ।

👍👍✍🏼✍🏼
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर ।

4 Likes · 4 Comments · 71 Views
You may also like:
*अमूल्य निधि का मूल्य (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
यूं भी तेरी उलफत का .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
कविराज
Buddha Prakash
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
अपनी आँखों से ........................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
धन-दौलत
AMRESH KUMAR VERMA
"हम्प्टी शर्मा की दुल्हनिया" के "अंगद" यानि सिद्धार्थ नहीं रहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दुनियां फना हो जानी है।
Taj Mohammad
महेंद्र जी (संस्मरण / पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
"अगली राखी में आऊँगा"
Lohit Tamta
The Magical Darkness
Manisha Manjari
विश्वास और शक
Dr Meenu Poonia
यह दिल
Anamika Singh
एक ग़ज़ल लिख रहा हूं।
Taj Mohammad
हरियाली और बंजर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कॉर्पोरेट जगत और पॉलिटिक्स
AJAY AMITABH SUMAN
लाल टोपी
मनोज कर्ण
सार्थक हो जिसका
Dr fauzia Naseem shad
इश्क़ नहीं हम
Varun Singh Gautam
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
मेरे प्यारे देशप्रेमियों
gurudeenverma198
अचार का स्वाद
Buddha Prakash
नव विहान: सकारात्मकता का दस्तावेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मजदूर की रोटी
AMRESH KUMAR VERMA
मोहब्बत का गम है।
Taj Mohammad
बिंदु छंद "राम कृपा"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
🌺🌺प्रकृत्या: आदि:-मध्य:-अन्त: ईश्वरैव🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सच्चा रिश्ता
DESH RAJ
आईना झूठ लगे
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...