Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#1 Trending Author
May 6, 2022 · 1 min read

एहसासों के समंदर में।

एहसासों के समंदर में मैं उसके खो गया।
एक बार फ़िर याद आकर मुझमें वो गुजर गया।।

दिले तमन्ना थी जिन्हें जिंदगी में पाने की।
इस दुनियाँ की भीड़ में जानें कहां वो खो गया।।

✍✍ताज मोहम्मद✍✍

1 Like · 2 Comments · 77 Views
You may also like:
पत्थर दिल है।
Taj Mohammad
क्या गढ़ेगा (निर्माण करेगा ) पाकिस्तान
Dr.sima
सारे निशां मिटा देते हैं।
Taj Mohammad
रस्सियाँ पानी की (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
सुनो ! हे राम ! मैं तुम्हारा परित्याग करती हूँ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️इंसान के पास अपना क्या था?✍️
"अशांत" शेखर
शहरों के हालात
Ram Krishan Rastogi
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तेरी एक तिरछी नज़र
DESH RAJ
तजर्रुद (विरक्ति)
Shyam Sundar Subramanian
“सराय का मुसाफिर”
DESH RAJ
चंद सांसे अभी बाकी है
Arjun Chauhan
नियमित दिनचर्या
AMRESH KUMAR VERMA
प्रेयसी
Dr. Sunita Singh
एक शख्स ही ऐसा होता है
Krishan Singh
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
अंदाज़।
Taj Mohammad
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अजी मोहब्बत है।
Taj Mohammad
चांदनी में बैठते हैं।
Taj Mohammad
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
कैसे समझाऊँ तुझे...
Sapna K S
Born again with love...
Abhineet Mittal
पापा ने मां बनकर।
Taj Mohammad
मेरे पापा जैसे कोई नहीं.......... है न खुदा
Nitu Sah
सुबह - सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
Raju Gajbhiye
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
Loading...