“एहसासों की पोटली”

“एहसासों की पोटली”

*************
*************

लटका के कंधों पर
उम्मीदों के झोले
उनमे भरके
कुछ ख्वाब
कुछ फरमाइशें
कुछ शिकायतें
कुछ एहसास
कुछ विश्वास
चल देता हूँ रोज
एक नए सफ़र पर
होठों पर मुस्कान सजाये
कन्धों को ऊंचा उठाकर
लौटता हूँ
हाथ में लिए
एक छोटी सी पोटली
पीछे छुपाकर
और बिखेर देता हूँ
अचानक से खोलकर
एक मुस्कान
स्पंदित हो उठता है ह्रदय
सुनकर वो मीठी सी किलकारी
और पीछे छूट जाती हैं
सारी थकान
सारी परेशानियां
जब सुनता हूँ
म्मम्मम म्मम्मम
उम्ह उम्ह उम्ह्ह
कुछ ऐसी आवाजें
जीवंत हो उठती हैं आँखें
जब देखता हूँ उसके
छोटे छोटे लबों पर
बिना दांतों वाली मुस्कान
और देखता हूँ
नन्हे नन्हे हाथों को
मचलते हुए |

“सन्दीप कुमार”

2 Comments · 226 Views
You may also like:
मिटटी
Vikas Sharma'Shivaaya'
पिता
pradeep nagarwal
बेजुबान
Anamika Singh
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
*माँ छिन्नमस्तिका 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
हक़ीक़त
अंजनीत निज्जर
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
नियत मे पर्दा
Vikas Sharma'Shivaaya'
महका हम करेंगें।
Taj Mohammad
परीक्षा को समझो उत्सव समान
ओनिका सेतिया 'अनु '
कच्चे आम
Prabhat Ranjan
छुट्टी वाले दिन...♡
Dr. Alpa H.
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
कुछ भी ना साथ रहता है।
Taj Mohammad
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग९]
Anamika Singh
आज बहुत दिनों बाद
Krishan Singh
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H.
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
Ravi Prakash
महंगाई के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कविता क्या है ?
Ram Krishan Rastogi
तुम जो मिल गई हो।
Taj Mohammad
सजना शीतल छांव हैं सजनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हसद
Alok Saxena
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
# जीत की तलाश #
Dr. Alpa H.
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
Loading...