Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 20, 2022 · 1 min read

एहसासात

कभी उफ़क में डूबते हुए मेहर
को देखता हूं ,
कभी च़रागों से ऱोशन झरोखों
को देखता हूं,
कभी श़ब -ए- माहौल में खामोश क़मर के
सफ़र को देखता हूं ,
कभी सहर होते ही कमसिन कलियों पर
मुस्कुराती हुई श़बनम़ को देखता हूं ,
कभी समुंदर किनारे लहरों की
उठती गिरती आमेज़िश को देखता हूं ,
कभी दश़्ते सफ़र में शज़र पर परिंदों के
श़िद्दत से बनाए घोंसलों को देखता हूं ,
कभी मासूम बच्चे के मुस्कुराते चेहरे के
नूर को देखता हूं ,
कभी मेहनतकशों के पसीने से नहाए
जिस्म़ों की चमक देखता हूं ,
कभी मां की गोद में सिमट कर सोते छौने की
बेखबर नींद को देखता हूं ,
सोचता हूं, जितनी भी है,
ये ज़िंदगी, इतनी भी बुरी नहीं है ,
गर्दिश -ए अय्याम में भी,
खूबसूरत एहसासात की कमी नहीं है ,

1 Like · 2 Comments · 62 Views
You may also like:
मुझको मालूम नहीं
gurudeenverma198
सफलता की कुंजी ।
Anamika Singh
✍️खलबली✍️
'अशांत' शेखर
भारत की जाति व्यवस्था
AMRESH KUMAR VERMA
साथ समय के चलना सीखो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
वक्त को कब मिला है ठौर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🍀🌺परमात्मन: अंश: भवति तु स्वरूपे दोषः न🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️शर्तो के गुलदस्ते✍️
'अशांत' शेखर
दुखो की नैया
AMRESH KUMAR VERMA
वार्तालाप….
Piyush Goel
दोस्त
लक्ष्मी सिंह
✍️ये भी अज़ीब है✍️
'अशांत' शेखर
आओ तुम
sangeeta beniwal
लाल में तुम ग़ुलाब लगती हो
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
गुलफाम बन गए हैं।
Taj Mohammad
“ विश्वास की डोर ”
DESH RAJ
राष्ट्र-विभाजन को (मुक्तक)
Ravi Prakash
शाश्वत सत्य की कलम से।
Manisha Manjari
-जीवनसाथी -
bharat gehlot
बेमकसद जिंदगी।
Taj Mohammad
उस निरोगी का रोग
gurudeenverma198
saliqe se hawaon mein jo khushbu ghol sakte hain
Muhammad Asif Ali
शहरों के हालात
Ram Krishan Rastogi
हम हर गम छुपा लेते हैं।
Taj Mohammad
✍️मुकद्दर आजमाते है✍️
'अशांत' शेखर
जब भी सोचेंगे
Dr fauzia Naseem shad
आरजू
Kanchan Khanna
कविता : व्रीड़ा
Sushila Joshi
वेदना
Archana Shukla "Abhidha"
मोहब्बत कुआं
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
Loading...