Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-335💐

एतिबार नहीं है,एतिबार नहीं है,एतिबार नहीं है,
आसूँ गिरे थे,गिर रहे हैं, फिर भी एतिबार नहीं है,
फ़कत जान ही रह गई है,सुनो मिरी कहानी को,
हर साँस भी उनके नाम है, क्यों एतिबार नहीं है।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
40 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
मैं अपने दिल में मुस्तकबिल नहीं बनाऊंगा
मैं अपने दिल में मुस्तकबिल नहीं बनाऊंगा
कवि दीपक बवेजा
अब भी दुनिया का सबसे कठिन विषय
अब भी दुनिया का सबसे कठिन विषय "प्रेम" ही है
DEVESH KUMAR PANDEY
अंकुर
अंकुर
manisha
ज़िंदगी ऐसी कि हर सांस में
ज़िंदगी ऐसी कि हर सांस में
Dr fauzia Naseem shad
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
Shubham Pandey (S P)
बचपन-सा हो जाना / (नवगीत)
बचपन-सा हो जाना / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्रद्धांजलि
श्रद्धांजलि
Arti Bhadauria
Doob bhi jaye to kya gam hai,
Doob bhi jaye to kya gam hai,
Sakshi Tripathi
चैन से जी पाते नहीं,ख्वाबों को ढोते-ढोते
चैन से जी पाते नहीं,ख्वाबों को ढोते-ढोते
मनोज कर्ण
शायद कुछ अपने ही बेगाने हो गये हैं
शायद कुछ अपने ही बेगाने हो गये हैं
Ravi Ghayal
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
एक लड़का
एक लड़का
Shiva Awasthi
मौन शब्द
मौन शब्द
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"ऐसा वक्त आएगा"
Dr. Kishan tandon kranti
👌फिर हुआ साबित👌
👌फिर हुआ साबित👌
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-444💐
💐प्रेम कौतुक-444💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेटी परायो धन बताये, पिहर सु ससुराल मे पति थम्माये।
बेटी परायो धन बताये, पिहर सु ससुराल मे पति थम्माये।
Anil chobisa
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
Basant Bhagwan Roy
ओ चाँद गगन के....
ओ चाँद गगन के....
डॉ.सीमा अग्रवाल
"मैं आज़ाद हो गया"
Lohit Tamta
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
युवा शक्ति
युवा शक्ति
Kavita Chouhan
मेरा भी कुछ लिखने का मन करता है,
मेरा भी कुछ लिखने का मन करता है,
डॉ. दीपक मेवाती
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भगतसिंह की क़लम
भगतसिंह की क़लम
Shekhar Chandra Mitra
कभी कभी खुद को खो देते हैं,
कभी कभी खुद को खो देते हैं,
Ashwini sharma
फूलों की तरह मुस्कराते रहिए जनाब
फूलों की तरह मुस्कराते रहिए जनाब
shabina. Naaz
पोथी समीक्षा -भासा के न बांटियो।
पोथी समीक्षा -भासा के न बांटियो।
Acharya Rama Nand Mandal
पेशावर की मस्जिद में
पेशावर की मस्जिद में
Satish Srijan
कभी किताब से गुज़रे
कभी किताब से गुज़रे
Ranjana Verma
Loading...