Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 12, 2016 · 1 min read

एक हलचल सी है

हवाओं में भी, एक हलचल सी है ।
तुमसे मिले तो, आहट सी है ।।
खोकर भी जाना, पाकर भी जाना ।
कोई नहीं है, सबसे दिवाना ।।
हवाओं में भी, एक हलचल सी है ।

रहते तो थे हम, दिल में किसी के ।
कहते भी थे हम, आखों की नमी से ।।
कोई नहीं जो, साथ चलेगा ।
दो पल हसाया, तो रोना पड़ेगा ।।
हवाओं में भी, एक हलचल सी है ।

जीवन का तो, अंदाज यही है ।
लगता जो अपना, अपना नहीं है ।।
खोकर खुद में, जान गये है ।
हम है अकेले, मान गये हैं ।।
हवाओं में भी, एक हलचल सी है ।

सोनिका मिश्रा

419 Views
You may also like:
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
✍️मोहसुख✍️
"अशांत" शेखर
"अंतरात्मा"
Dr. Alpa H. Amin
आप कौन है
Sandeep Albela
दिल है कि मानता ही नहीं
gurudeenverma198
I feel h
Swami Ganganiya
जिंदगी का मशवरा
Krishan Singh
ब्रह्म निर्णय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हनुमंता
Dhirendra Panchal
कुछ गुनाहों की कोई भी मगफिरत ना होती है।
Taj Mohammad
तुम...
Sapna K S
पिता
Anis Shah
" सरोज "
Dr Meenu Poonia
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
चेहरा
शिव प्रताप लोधी
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
सोने की दस अँगूठियाँ….
Piyush Goel
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
ज़माने की नज़र से।
Taj Mohammad
जो भी संजोग बने संभालो खुद को....
Dr. Alpa H. Amin
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
I love to vanish like that shooting star.
Manisha Manjari
मायका
Anamika Singh
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
भारतवर्ष
Utsav Kumar Aarya
✍️✍️जूनून में आग✍️✍️
"अशांत" शेखर
सिपाही
Buddha Prakash
✍️वो उड़ते रहता है✍️
"अशांत" शेखर
Loading...