Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Aug 2023 · 1 min read

एक संदेश बुनकरों के नाम

तुम खुरदरा पहन
हमें रेशम पहनाते आए
तुम दिन रात मेहनत करके
हमें सजाते आए
तुम्हारी कला
तुम्हारी कारीगरी
तुम्हारी कल्पना
उसकी बारीकी
फिर उसके रंग बिरंगे
संयोजन का
सिलसिला
पीढ़ी दर पीढ़ी
यूँ ही चला
लम्बे पतले धागों से
हर किसी के
मनभावन
सपनों को बुना
फिर भी तुमने
अज्ञात रहना ही चुना
कहीं जरी से संजोया
कहीं पल्लू में
चार चाँद लगाए
जिस धरोहर को
सहेजने लायक़ बनाते
बचाते,पहनाते तुम
सदियों से हमें
सौन्दर्य सम्पन्न
बनाते आए
काश वो ही तुम्हें
बड़ी सी पहचान
और बड़ा सा नाम
दिला पाए

डॉ निशा वाधवा

1 Like · 415 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
**बकरा बन पल मे मै हलाल हो गया**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सोने के भाव बिके बैंगन
सोने के भाव बिके बैंगन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वक्त बड़ा बेरहम होता है साहब अपने साथ इंसान से जूड़ी हर यादो
वक्त बड़ा बेरहम होता है साहब अपने साथ इंसान से जूड़ी हर यादो
Ranjeet kumar patre
कुछ
कुछ
Shweta Soni
संतुलित रहें सदा जज्बात
संतुलित रहें सदा जज्बात
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
लड़की की जिंदगी/ कन्या भूर्ण हत्या
लड़की की जिंदगी/ कन्या भूर्ण हत्या
Raazzz Kumar (Reyansh)
"व्यक्ति जब अपने अंदर छिपी हुई शक्तियों के स्रोत को जान लेता
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
"सच्चाई की ओर"
Dr. Kishan tandon kranti
जय माता दी ।
जय माता दी ।
Anil Mishra Prahari
प्राण vs प्रण
प्राण vs प्रण
Rj Anand Prajapati
Lately, what weighs more to me is being understood. To be se
Lately, what weighs more to me is being understood. To be se
पूर्वार्थ
उफ़ ये अदा
उफ़ ये अदा
Surinder blackpen
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
🌹जादू उसकी नजरों का🌹
🌹जादू उसकी नजरों का🌹
SPK Sachin Lodhi
"मुसव्विर ने सभी रंगों को
*Author प्रणय प्रभात*
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
(15)
(15) " वित्तं शरणं " भज ले भैया !
Kishore Nigam
लिखता हम त मैथिल छी ,मैथिली हम नहि बाजि सकैत छी !बच्चा सभक स
लिखता हम त मैथिल छी ,मैथिली हम नहि बाजि सकैत छी !बच्चा सभक स
DrLakshman Jha Parimal
महा कवि वृंद रचनाकार,
महा कवि वृंद रचनाकार,
Neelam Sharma
ताउम्र जलता रहा मैं तिरे वफ़ाओं के चराग़ में,
ताउम्र जलता रहा मैं तिरे वफ़ाओं के चराग़ में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
उम्मीद
उम्मीद
Paras Nath Jha
अफ़सोस
अफ़सोस
Shekhar Chandra Mitra
आसमाँ .......
आसमाँ .......
sushil sarna
दुनिया
दुनिया
Mangilal 713
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
तुम ये उम्मीद मत रखना मुझसे
Maroof aalam
वक्त-वक्त की बात है
वक्त-वक्त की बात है
Pratibha Pandey
हर तरफ़ रंज है, आलाम है, तन्हाई है
हर तरफ़ रंज है, आलाम है, तन्हाई है
अरशद रसूल बदायूंनी
प्रेम-प्रेम रटते सभी,
प्रेम-प्रेम रटते सभी,
Arvind trivedi
* खिल उठती चंपा *
* खिल उठती चंपा *
surenderpal vaidya
हालात ए वक्त से
हालात ए वक्त से
Dr fauzia Naseem shad
Loading...