Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 11, 2016 · 1 min read

एक शांत मौन…..

आओ इस कोरे कागज पर
कुछ लिख देते है
ना मिटने वाला शब्द
जो दिल की गहराई में उतर जाये
शब्द तो शब्द है
शब्द के अर्थ भी होंगे
अर्थ के कई मायने होंगे,
कुछ दिल में उतरेंगे,कुछ दिल के पार होंगे
तीर के साथ,
शब्द तो लिखे भी जाते है
और बोले भी
कुछ शब्द होते है गहरे मौन
जिसे लिखा भी नही जाता
न ही बोला समझा पढ़ा जा सकता है,
केवल अनुभव कर सकता है….
दिल की गहराइयो में छिपा मौन
शांत सा मौन……
कागज कोरा ही रह गया
जान लिया था दिल की गहराइयो में छिपा शांत सा मौन,जो केवल मौन ही समझता था
केवल मौन ही जो था शब्दों से परे।।

^^^^^^दिनेश शर्मा^^^^^^

165 Views
You may also like:
अपना लो मुझे अभी...
Dr. Alpa H. Amin
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
कवि
Vijaykumar Gundal
पिता
Mamta Rani
शबनम।
Taj Mohammad
एक हम ही है गलत।
Taj Mohammad
तितली सी उड़ान है
VINOD KUMAR CHAUHAN
बाबा ब्याह ना देना,,,
Taj Mohammad
तरबूज का हाल
श्री रमण
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
सच में ईश्वर लगते पिता हमारें।।
Taj Mohammad
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
खेत
Buddha Prakash
जिंदगी की अभिलाषा
Dr. Alpa H. Amin
अश्रुपात्र A glass of years भाग 6 और 7
Dr. Meenakshi Sharma
# उम्मीद की किरण #
Dr. Alpa H. Amin
ग्रहण
ओनिका सेतिया 'अनु '
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
एक संकल्प
Aditya Prakash
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
✍️क़ुर्बान मेरा जज़्बा हो✍️
"अशांत" शेखर
मृत्यु
Anamika Singh
*पार्क में योग (कहानी)*
Ravi Prakash
✍️आरसे✍️
"अशांत" शेखर
तुम्हारे हाथों में।
Taj Mohammad
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
आख़िरी मुलाक़ात ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
उनकी आमद हुई।
Taj Mohammad
【11】 *!* टिक टिक टिक चले घड़ी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Dr. Alpa H. Amin
Loading...