Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#8 Trending Author
Aug 2, 2021 · 2 min read

एक वीरांगना का अन्त !

====”एक वीरांगना का अन्त!”====
*********************************
भारत को आ घेरा था वो महाकाल।
इन्दिरा पर चली थी एक गहरी चाल।।
इकतीस अक्टूबर चौरासी को प्रात:काल।
इस वीरांगना का हो गया अन्तकाल।।
*****
वे रक्षक थे-जो बन बैठे, इन्दिरा का काल।
वे पराये नहीं थे, थे भारत-माॅं के लाल।।
उन निर्दयों ने, उसका भी किया अन्तकाल।
जो बन बैठा था- एक वीरता की ढ़ाल।।
*****
इन्दिरा एक माॅं थी सम्पूर्ण भारत की।
थी एक ममता की ज्योत भारत की।।
क्यों अपनी ही माॅं की हत्या कर दी ?
क्यों ममता की ज्योत बुझा दी भारत की ??
*****
एक माॅं की हत्या का आग-सा फैला समाचार।
फिर क्या था- चारों तरफ मचा हाहाकार।।
जिधर भी देखा- छाया अंधकार ही अंधकार।
इन्दिरा के शोक में डूबा सारा संसार।।
*****
जन-जन में प्रतिशोध की ज्वाला धधक आई।
एक माॅं की निर्मम हत्या से ऐसी आंधी आई।।
कि सम्पूर्ण भारत में- फिर मची त्राहि-त्राहि।
और मारे गये आपस में- थे जो भाई-भाई।।
*****
जिधर भी देखा- जनता ने खेली खून की होली।
किसी पर तलवार चली, चली किसी पर गोली।।
कहीं आग जली, कहीं वे काया जिन्दा जली।
तो कहीं खेंची गई थी, किसी की चोली।।
*****
भारत की ये दशा देख- रोया था महाकाल।
टूटा था, भारत की एकता-अखंडता का जाल।
इन्दिरा की हत्या से हुआ भारत पुरा बे-हाल।
अब! न जाने कैसा होगा, भारत का भविष्यकाल ?
*****
जन-जन की याचना भी, न की ईश्वर ने स्वीकार।
आखिर करना ही पड़ा, इन्दिरा का अंतिम संस्कार।।
जलती चिता देख, रो पड़ा फिर सारा संसार।
एक महान् नारी का था, जो यह अंतिम संस्कार।।
*****
देश के खातिर- इन्दिरा ने दिया प्राण-बलिदान।
इस वीर नीतिज्ञा ने किया- सबका कल्याण।।
आओं ! हम भी करें सम्पूर्ण भारत का कल्याण।
और करें हम! अशेष मानवता का कल्याण।।
******************************************
*रचयिता: प्रभु दयाल रानीवाल*(उज्जैन)*मध्यप्रदेश*
******************************************

2 Likes · 2 Comments · 1238 Views
You may also like:
दिया
Anamika Singh
लता मंगेशकर
AMRESH KUMAR VERMA
✍️माटी का है मनुष्य✍️
"अशांत" शेखर
फूलों का नया शौक पाला है।
Taj Mohammad
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मुट्ठी में ख्वाबों को दबा रखा है।
Taj Mohammad
अकेलापन
AMRESH KUMAR VERMA
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
🌺प्रेम की राह पर-54🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बहन का जन्मदिन
Khushboo Khatoon
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
*अंतिम प्रणाम ..अलविदा #डॉ_अशोक_कुमार_गुप्ता* (संस्मरण)
Ravi Prakash
✍️KITCHEN✍️
"अशांत" शेखर
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चार
Vikas Sharma'Shivaaya'
कोई ना अपना रहनुमां है।
Taj Mohammad
मेरे गांव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर:भाग:2
AJAY AMITABH SUMAN
नीति के दोहे
Rakesh Pathak Kathara
माँ बाप का बटवारा
Ram Krishan Rastogi
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
¡~¡ कोयल, बुलबुल और पपीहा ¡~¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हाइकु__ पिता
Manu Vashistha
ऐ दिल सब्र कर।
Taj Mohammad
✍️आप क्यूँ लिखते है ?✍️
"अशांत" शेखर
मन्नू जी की स्मृति में दोहे (श्रद्धा सुमन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मंदिर
जगदीश लववंशी
💐प्रेम की राह पर-56💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...