Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 1, 2022 · 1 min read

एक मजदूर

एक कर्मठ और सृजनशील मजदूर नहीं मनाता
मजदूर दिवस
वो लीन रहता है अपने दैनिक कर्मों में निरंतर..
निर्मित कर देता है भवन, बगीचा,
अनेक यंत्र, नहीं करता है षडयंत्र, न राजनीति, वो लगा रहता है सृजन में, धूप में झुलसते..
सपनों की चिंता किये बगैर
अपने बेचैन यर्थाथ से जूझता हुआ..
समर्पित होता रहता है..
अपने संघर्ष के समक्ष..
मन में भरकर..
आकर्षित उम्मीदों का सुंदर परिदृश्य!
जीत जाता है कड़ुवी कठिनाइयों से!
वो प्रफुल्लित हो उठता है..
प्रकृति की उर्वरक सुगंध पाकर, मेहनत में पसीना बहाकर, मिट्टी से सजसँवर कर प्रफुल्लित रहता है उसका अंर्तमन!
वो सजाता जाता है..
अपने श्रम के दुरूह अनुभवों से,
रचनात्मक गलियाँ!
हार नहीं मानता परिस्थितियों से..
जोतता जाता है अपने पसीने से..
देश के उन्नत भविष्य के लिए..
सार्थक फसलों का खेत!
भले उसको आश्रय देती रहे..
किनारे की धरती पर पड़ी रेत!
मिलाकर संवेदनशील और कर्मठ
विचारों की ऊर्जा..
सृजित करता जाता है..
सुविकसित भाव से वो नव- परिवेश!

स्वरचित
रश्मि लहर
लखनऊ

2 Likes · 2 Comments · 94 Views
You may also like:
मैं बहती गंगा बन जाऊंगी।
Taj Mohammad
पिता
Anis Shah
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
* अदृश्य ऊर्जा *
Dr. Alpa H. Amin
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
घुतिवान- ए- मनुज
AMRESH KUMAR VERMA
आपस में तुम मिलकर रहना
Krishan Singh
वक्त ए नमाज़ है।
Taj Mohammad
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
सेहरा गीत परंपरा
Ravi Prakash
चिड़ियाँ
Anamika Singh
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
भूल जा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
मदहोश रहे सदा।
Taj Mohammad
लूटपातों की हयात
AMRESH KUMAR VERMA
मांडवी
Madhu Sethi
यह दुनिया है कैसी
gurudeenverma198
कोई तो दिन होगा।
Taj Mohammad
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
गम आ मिले।
Taj Mohammad
✍️बोन्साई✍️
"अशांत" शेखर
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
【26】**!** हम हिंदी हम हिंदुस्तान **!**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
सोंच समझ....
Dr. Alpa H. Amin
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
Loading...