Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 23, 2022 · 1 min read

पढ़ाई-लिखाई एक बोझ

आप हम विद्यार्थियों के लिए
पढ़ाई – लिखाई लगती गुत्थी
चित्त करता पढ़ने को ना हमें
पढ़ाई – लिखाई लगता जवाल ।

पढ़ लिखकर अच्छी नौकरी पाना
ज्यादातर जनक के होते हैं ख्वाब
विद्यार्थियों पर बन जाता गजबाँक
जिससे पढ़ाई-लिखाई लगता खीसा ।

जो निरंतर करता पढ़ाई – लिखाई
उसको न होती जल्दी कोई गिरह
जब छोड़ – भाग के पढ़ते है हम
तो पढ़ाई – लिखाई बनता दुश्कर ।

पढ़ाई – लिखाई से होते हम विद्वान
विद्वान होने पर ! हम अपना जीवन
कैसे अच्छा जीये ? का चलता पताह
पढ़ाई -लिखाई आज-कल श्रेष्ठ जग में ।

लेखक :- अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

43 Views
You may also like:
ब्रह्म निर्णय
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
महफिल में छा गई।
Taj Mohammad
मां तेरे आंचल को।
Taj Mohammad
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
अशक्त परिंदा
AMRESH KUMAR VERMA
भारत की जमीं
DESH RAJ
मोहब्बत का समन्दर।
Taj Mohammad
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
अनोखी सीख
DESH RAJ
अन्याय का साथी
AMRESH KUMAR VERMA
कहां जीवन है ?
Saraswati Bajpai
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
If we could be together again...
Abhineet Mittal
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
वक्त और दिन
DESH RAJ
मयखाने
Vikas Sharma'Shivaaya'
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
Shyam Sundar Subramanian
मां सरस्वती
AMRESH KUMAR VERMA
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
Ravi Prakash
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
उम्मीद पर है जिन्दगी
Anamika Singh
पिता का पता
श्री रमण
**दोस्ती हैं अजूबा**
Dr. Alpa H. Amin
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
माँ तुम्हें सलाम हैं।
Anamika Singh
हरीतिमा स्वंहृदय में
Varun Singh Gautam
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
Loading...