Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 27, 2016 · 1 min read

एक बार फिर संयमित हो रही हूं

सांकेतिक व्यंग
एक बार फिर ……

आज फिर संयमित हो रही हूं
संगठित होकर सारगरभित हो रही हूं

स्वयं की लेखनी को स्फुटित कर
भीगे लफ्जो को अल्फाज दे रही हूं

व्यथितऔर आहत मन को टोह रही हूं
वक्त की कूर्रता को मात दे रही हू

हॉ आज फिर एक बार संयमित हो रही हूं
कुछ नया कु छ आसमानी करने को उनमुख हो रही हूं

शिछित की अशिछा से
ग्यानी की अग्यानता से
धनी की निर्धनता से
बस जरा कुठित हो रही हूं
हॉ सच ..
आज एक बार फिर संयमित हो रही हूं

किसी गरीब की बेबसी
किसी गुरूर की लाचारी
और किसी डिग्री की बेरोजगारी
को देखकर द्रवित हो रही हूं …
बेपनाह मेहनत को
तिल तिल मरते देख
आहत हो रही हूं
हॉ सचमुच एक बार फिर
संयमित हो रही हूं
संगठित होकर सार गर्भित हो रही हूं ……

142 Views
You may also like:
आखिर तुम खुश क्यों हो
Krishan Singh
भ्राता - भ्राता
Utsav Kumar Aarya
जग का राजा सूर्य
Buddha Prakash
विधि के दो वरदान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बेजुबां जीव
Jyoti Khari
नयी बहुरिया घर आयी*
Dr. Sunita Singh
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
यादें आती हैं
Krishan Singh
✍️अहज़ान✍️
"अशांत" शेखर
सार संभार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मृत्यु
Anamika Singh
देखो
Dr.Priya Soni Khare
शहर को क्या हुआ
Anamika Singh
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
Accept the mistake
Buddha Prakash
रिश्ते
Saraswati Bajpai
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
बचपन में थे सवा शेर
VINOD KUMAR CHAUHAN
थक गये हैं कदम अब चलेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
नात،،सारी दुनिया के गमों से मुज्तरिब दिल हो गया।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
बस तुम को चाहते हैं।
Taj Mohammad
नागफनी बो रहे लोग
शेख़ जाफ़र खान
दया***
Prabhavari Jha
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मैं बहती गंगा बन जाऊंगी।
Taj Mohammad
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
इब्ने सफ़ी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शोर मचाने वाले गिरोह
Anamika Singh
हमारी जां।
Taj Mohammad
Loading...