Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2017 · 1 min read

एक प्रश्न

आज बस में बैठे-बैठे
बाहर बस स्टैंड पर खड़े उसे देखा
क्षीण काया, चांदी से बाल
एक छोटा बैग हाथ में लिए
पैरों के बाहर खड़े होने में असमर्थ
जमीन पर ही बैठी
कमज़ोर निगाहों से बस की प्रतीक्षा करती
वह 65 या शायद 70 की अवस्था वाली साँवली से स्त्री।
बीच में ही थक कर उठ गई
आंखों की खामोशी बयां कर रही थी
उसका नितांत अकेलापन
मन में प्रश्न उठा-
इस उम्र में किस दिशा में जा रही है?
बिल्कुल तंहा।
कल्पना में एक छोटा सा बालक दिखा
उसकी अंगुलियां पकड़े।
‘दादी दादी’ का तोतला स्वर सुन
झुर्रियों से भरा मुस्कुराता चेहरा उसका।
पर यह तो सत्य नहीं
क्यों इस तरह बुढ़ापा है उसका?
जवाब तलाश ही रही थी कि
आगे चल पड़ी बस मेरी
वह वृद्धा रह गई पीछे
वहीं, उसी तरह प्रतीक्षा में खड़ी।

Language: Hindi
1 Comment · 422 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
"यादें"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी सोच मेरे तू l
मेरी सोच मेरे तू l
सेजल गोस्वामी
खूबसूरती
खूबसूरती
RAKESH RAKESH
कुछ बेशकीमती छूट गया हैं तुम्हारा, वो तुम्हें लौटाना चाहता हूँ !
कुछ बेशकीमती छूट गया हैं तुम्हारा, वो तुम्हें लौटाना चाहता हूँ !
The_dk_poetry
संघर्ष
संघर्ष
Sushil chauhan
चलो एक दीप मानवता का।
चलो एक दीप मानवता का।
Taj Mohammad
जब तुम एक बड़े मकसद को लेकर चलते हो तो छोटी छोटी बाधाएं तुम्
जब तुम एक बड़े मकसद को लेकर चलते हो तो छोटी छोटी बाधाएं तुम्
Drjavedkhan
श्राद्ध पक्ष के दोहे
श्राद्ध पक्ष के दोहे
sushil sarna
मेरी चुनरी में लागा दाग, कन्हैया
मेरी चुनरी में लागा दाग, कन्हैया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
It's not about you have said anything wrong its about you ha
It's not about you have said anything wrong its about you ha
Nupur Pathak
कुछ कहा मत करो
कुछ कहा मत करो
Dr. Sunita Singh
If you get tired, learn to rest. Not to Quit.
If you get tired, learn to rest. Not to Quit.
पूर्वार्थ
एक तरफा प्यार
एक तरफा प्यार
Nishant prakhar
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
नहीं छिपती
नहीं छिपती
shabina. Naaz
हमें याद है ९ बजे रात के बाद एस .टी .डी. बूथ का मंजर ! लम्बी
हमें याद है ९ बजे रात के बाद एस .टी .डी. बूथ का मंजर ! लम्बी
DrLakshman Jha Parimal
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
घर बाहर जूझती महिलाएं(A poem for all working women)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बुलेट ट्रेन की तरह है, सुपर फास्ट सब यार।
बुलेट ट्रेन की तरह है, सुपर फास्ट सब यार।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️नामुक्कमल सफर✍️
✍️नामुक्कमल सफर✍️
'अशांत' शेखर
*वृद्धावस्था : सात दोहे*
*वृद्धावस्था : सात दोहे*
Ravi Prakash
दीप माटी का
दीप माटी का
Dr. Meenakshi Sharma
जिन्दगी एक दरिया है
जिन्दगी एक दरिया है
Anamika Singh
सपने सारे टूट चुके हैं ।
सपने सारे टूट चुके हैं ।
Arvind trivedi
"आओ मिलकर दीप जलायें "
Chunnu Lal Gupta
Love whole heartedly
Love whole heartedly
Dhriti Mishra
देर तक मैंने
देर तक मैंने
Dr fauzia Naseem shad
हे सड़क तुम्हें प्रणाम
हे सड़क तुम्हें प्रणाम
मानक लाल मनु
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
SUCCESS : MYTH & TRUTH
SUCCESS : MYTH & TRUTH
Aditya Prakash
Loading...