Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 10, 2017 · 1 min read

एक पिता की विलासिता से दुखी पुञ की व्‍यथा पर गेहलोत की कलम

ऐ मेरे जनक तु मुझे न कर बर्बाद ,
न करो तुम विलासिता में अपनी पूंजी बर्बाद ,
न करो बर्बाद यु पूंजी पूर्वज रोये ,
रोये पूर्वज और अग्रज अपना दुख किसे बखेरे ,
किसे बखेरे अपना दुख यु अर्ध्‍दागिनी ,
जिसने ली है सात जन्‍म तक साथ निभानी ,
दुखी है तेरे सुत गेहलोत यह जानी ,
व्‍यथ्‍ाित है तेरे पौञ और नाती नातिन ,
भुलकर अपने अतीत को जीना चाहे ,
बडे ही वेदना से भूल रहे वो अपना अतीत ,
अतीत के कालचक्र में हो गया उनका सब कुछ बर्बाद ,
उनका सब कुछ बर्बाद बस बचा यह जीवन ,
तुम्‍हारी यह विलासिता जीवन करे बदहाल ,
बदहाली के इस जीवन में जीना हुआ दुश्‍वार ,
दुश्‍वार कर दिया जीवन अपना ,
की अपनो की जिंदगी हलाल ,
हलाल करने वाले अपनों की जिंदगी मत लील,
हो रहा नीवाला अपनों का दुश्‍वार ,
दुश्‍वार हो गया अन्‍न जल अपनों का गैर करे उपहास,
गैर करे उपहास न करो कभी ऐसे काम,
करके ऐसे काम से अपनों की नीदें हराम ,
हराम हो गई नीदें अपनों की गैर करे है मौज ,
ऐ मेरे जनक तु मुझे न कर बर्बाद ,
न करो तुम विलासिता मे अपनी पूंजी बर्बाद ,

भरत गेहलोत
जालोर राजस्‍थान
सम्‍पर्क सुञ 7742016184

1 Like · 251 Views
You may also like:
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
पल
sangeeta beniwal
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
दया करो भगवान
Buddha Prakash
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
Nurse An Angel
Buddha Prakash
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...