May 12, 2022 · 2 min read

एक पत्र बच्चों के लिए

बोलती
*लिखता तुमको यह पत्र, एक उम्र बाद, बूढ़े बच्चे बन जाते हैं
और बच्चे पेरेंट्स बन, वही भूमिका परवरिश निभाते हैं।
*तुम दोनों हैं जन्म से साथ, जीवन में दो और बच्चे जुड़ गए
परिवार जुड़ कर हमारे घर का अभिन्न हिस्सा बन गए।
*कुछ कमियां… तो रह ही जाती, मैं भी तो था पिता नौसिखिया नया नया
आज मैं बच्चों से सॉरी…बोलना चाहूं, समझूं तुमने माफ किया।
*उम्र के उस दौर में हैं, जब कहते कि, फिर से बच्चा बन जाते हैं।
या अड़ियल, खड़ूस जो हमेशा खुद को ही सही ठहराते हैं।
*दिल तो बच्चा है जी……. अब तुम मुझे बच्चा ही समझना।
और तुम बच्चे! … मेरे मातापिता, इसी तरह व्यवहार करना।
*हो सकता है कि मैं छोटे बच्चे की तरह खाते, पहनते समय कुछ गिरा दूं
या सब्र ना कर पाऊं, कहीं जाते वक्त उतावला हो जाऊं
*धैर्य से पेश आना,गुजारिश है,अगर कभी सामंजस्य ना बिठा पाऊं
मुझ पर खीझना भी नहीं, उम्र के साथ याददाश्त भूलने लग जाऊं
*या अच्छी तरह से उठ बैठ नहीं पाऊं तो तुम झुंझलाना भी नहीं।
और तुम मेरे साथ बैठ कर … दो मिनट बात करोगे, भागना भी नहीं।
*यही सबसे बड़ी … खुशी भी होगी, उम्र की परिपक्वता ने समझा दिया
हमने सदा तुम्हें अपना the best देने का प्रयत्न ही किया।
*हो सकता है मैं और तुम्हारी मां समय के साथ सामंजस्य नहीं बिठा पाएं,
और एक दिन ऐसा आए कि चलने से मजबूर कभी शरीर से भी लाचार हो जाएं
*तो तुम चार कदम साथ जरूर चलना, यही मेरी सबसे बड़ी पूंजी होगा।
एक उम्र के बाद समय व्यतीत करना, वाकई बहुत मुश्किल होगा
*मरने की बातें करने लगें, इन सब बातों से तुम परेशान नहीं होना।
यह भी जिंदगी का हिस्सा है…उसी की तैयारी, तुम तैयार रहना।
*Be brave…. उम्र का यह पड़ाव, तुम्हारी मुस्कुराहट ही हमारा सहारा है।
वृद्धजन बोझ नहीं, ज्ञान का भंडार, अमूल्य निधि सम्मान तुम्हारा है।
___ तुम्हारा वृद्ध पिता

2 Likes · 2 Comments · 40 Views
You may also like:
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
$गीत
आर.एस. 'प्रीतम'
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
'हाथी ' बच्चों का साथी
Buddha Prakash
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता
Rajiv Vishal
¡~¡ कोयल, बुलबुल और पपीहा ¡~¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
*मृदुभाषी श्री ऊदल सिंह जी : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
नूर
Alok Saxena
पिता का कंधा याद आता है।
Taj Mohammad
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
**नसीब**
Dr. Alpa H.
【1】 साईं भजन { दिल दीवाने का डोला }
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जीत-हार में भेद ना,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
क्यों सत अंतस दृश्य नहीं?
AJAY AMITABH SUMAN
अक्षय तृतीया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Destined To See A Totally Different Sight
Manisha Manjari
तुम...
Sapna K S
परेशां हूं बहुत।
Taj Mohammad
हनुमंता
Dhirendra Panchal
हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लड़कियों का घर
Surabhi bharati
डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर
N.ksahu0007@writer
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam मन
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
ना वो हवा ना वो पानी है अब
VINOD KUMAR CHAUHAN
आज कुछ ऐसा लिखो
Saraswati Bajpai
जीने की वजह तो दे
Saraswati Bajpai
Loading...