Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 23, 2022 · 1 min read

एक नज़म [ बेकायदा ]

डा . अरुण कुमार शास्त्री * एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

* एक नज़म [ बेकायदा ] *

वक़्त मिलता है कहाँ
आज के मौसुल में
रक़ीबा दर – ब – दर
डोलने का हुनर मंद है
ये ख़ाक सार
इक अदद पेट ही है
जिसने न जाने कितनी
जिंदगियां लीली है
तुखंम उस पर कभी भरता नहीं
हर वक्त सुरसा सा
मुँह खोल के रखता है
न जाने किस कदर
इसमें ख़ज़ीली हैं।
ईंते ख़ाबां मुलम्मा कौन सा
इस पर चढ़ा होगा
दिखाई भी तो नहीं देता
मगर इक बात मुझको
इसके जानिब ये ज़रुर कहनी है।
अगरचे ये नहीं होता
बा कसम ये दुनिया नहीं होती
ये जो फौज इंसानो को दीखती है ना
हर कदम जर्रे जर्रे पर
बा खुदा ये बिना इसके तो क्या
फिर यहाँ होती थी
बहुत सोचा हुआ लोचा
कदम लड़खड़ाने लगे मौला
मगर इसको तो चाहिए
कुछ चटख ये बात केहनी है,
रूखे रुखसार पर मुर्दगी सी छा जाती है।
अगरचे इसको देने में
कुछ देर हो जाये
कसम से पेट है बल्हाह
या के मसालची की धौंकनी है ये
अमां यारो मिरि रचना का
तफ़्सरा कर देना
मिरि ब्लॉग के सम्पादक ने,
मुये इस पेट के खाने की
बाबत मुझको ५ रुपया देने की
सिफारिश की है।
वक़्त मिलता है कहाँ
आज के मौसुल में
रक़ीबा दर – ब – दर
डोलने का हुनर मंद है
ये ख़ाक सार
इक अदद पेट ही है
जिसने न जाने कितनी
जिंदगियां लीली है

146 Views
You may also like:
ख्वाहिश
Anamika Singh
तू है तेरे अन्दर।
Taj Mohammad
तोड़ें नफ़रत की सीमाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
महसूस करो
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पापा
Anamika Singh
मुट्ठी में ख्वाबों को दबा रखा है।
Taj Mohammad
दे सहयोग पुरजोर
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सजल : तिरंगा भारत का
Sushila Joshi
✍️✍️अतीत✍️✍️
'अशांत' शेखर
दरिंदगी से तो भ्रूण हत्या ही अच्छी
Dr Meenu Poonia
तुम्हें जन्मदिन मुबारक हो
gurudeenverma198
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
गर्मी पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
हर घर तिरंगा
Dr Archana Gupta
#मजबूरिया
Dalveer Singh
माता अहिल्याबाई होल्कर जयंती
Dalveer Singh
उसकी सांसों में जान
Dr fauzia Naseem shad
ज़िन्दा रहना है तो जीवन के लिए लड़
Shivkumar Bilagrami
अहसान मानता हूं।
Taj Mohammad
अल्फाज़ ए ताज भाग-5
Taj Mohammad
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
जब सावन का मौसम आता
लक्ष्मी सिंह
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हम उन्हें कितना भी मनाले
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
बुरी आदत की तरह।
Taj Mohammad
ईद में खिलखिलाहट
Dr. Kishan Karigar
अश्रुपात्र A glass of years भाग 8
Dr. Meenakshi Sharma
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
खेत
Buddha Prakash
Loading...