Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2024 · 1 min read

एक नया अध्याय लिखूं

एक नया अध्याय लिखूं ,तेरा तुझसा पर्याय लिखूं।
मिलन विरह से ऊपर उठ, मुक्त छंद दो चार लिखूं ।।

स्तुतियों में जिसका वर्णन है, श्लोकों में जिसका वंदन है ।
स्वाध्याय के कुछ अंशों में, मन्त्र ज्ञान का सार लिखूं ।।

देवी-देव, ध्यान नित करते, भू नभ पवन में वही महकते |
संतों की वाणी नित गाती, वो ऋचा वेद आभार लिखूं।।

क्षर-अक्षर निहित हैं जिसमें, शब्द व्याकरण हित है जिसमें
असंख्य विधाओं का मूल जो, उसी का मैं आकार लिखूं

वाणी मूक हो जायेगी, महिमा नहीं कह पाएगी |
सागर नीर से वर्णित, वसुधा सकल का भार लिखूं।।

होकर भी कहीं नहीं है, फिर भी सर्वत्र वही
सत्य सनातन शाश्वत, क्षितिज के पार लिखूं।।

स्वयं कला, कलाधर कहलाता, नीलकंठ विषधर बन जाता
वो कैवल्य बोध तत्व ज्ञान, उस राम कृष्ण का आराध्य लिखूं।।

अवध की मर्यादा का निर्वाहन, या बृज की राधा बृषवाहन
कुरुक्षेत्र पार्थ और गीता ज्ञान, सरल सहज लय धार लिखूं ।।

लिखूं मर्म महा रास रहस्य का, त्याग महत्व ब्रह्मचर्य का
योग तंत्र साधना आत्मा उन्नति, जाग्रति को लगातार लिखूं ।।

दर्शन चिंतन मनन और मंथन, भक्ति भक्त का स्नेह स्पंदन
पावन पुनीत तेरा अभिनंदन, श्री चरण वंदन की पुकार लिखूं।।
……………………………………………………..

Language: Hindi
11 Likes · 3 Comments · 442 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
बुदबुदा कर तो देखो
बुदबुदा कर तो देखो
Mahender Singh
मीठा गान
मीठा गान
rekha mohan
स्वयं आएगा
स्वयं आएगा
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
रोटी रूदन
रोटी रूदन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
परम सत्य
परम सत्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ईश्वर है
ईश्वर है
साहिल
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
Aarti sirsat
रूप मधुर ऋतुराज का, अंग माधवी - गंध।
रूप मधुर ऋतुराज का, अंग माधवी - गंध।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कभी- कभी
कभी- कभी
Harish Chandra Pande
*विश्वामित्र नमन तुम्हें : कुछ दोहे*
*विश्वामित्र नमन तुम्हें : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-185💐
💐प्रेम कौतुक-185💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
अन्तर्मन को झांकती ये निगाहें
अन्तर्मन को झांकती ये निगाहें
Pramila sultan
"बोलती आँखें"
पंकज कुमार कर्ण
माँ महागौरी है नमन
माँ महागौरी है नमन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कविताएँ
कविताएँ
Shyam Pandey
राणा सा इस देश में, हुआ न कोई वीर
राणा सा इस देश में, हुआ न कोई वीर
Dr Archana Gupta
ज़िंदगी की ज़रूरत के
ज़िंदगी की ज़रूरत के
Dr fauzia Naseem shad
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
Acharya Rama Nand Mandal
"ये कैसा दस्तूर?"
Dr. Kishan tandon kranti
खांटी कबीरपंथी / Musafir Baitha
खांटी कबीरपंथी / Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
"सुसु के डैडी"
*Author प्रणय प्रभात*
आत्मविश्वास ही हमें शीर्ष पर है पहुंचाती... (काव्य)
आत्मविश्वास ही हमें शीर्ष पर है पहुंचाती... (काव्य)
AMRESH KUMAR VERMA
मैं तो इंसान हूँ ऐसा
मैं तो इंसान हूँ ऐसा
gurudeenverma198
दशमेश पिता, गोविंद गुरु
दशमेश पिता, गोविंद गुरु
Satish Srijan
भूतल अम्बर अम्बु में, सदा आपका वास।🙏
भूतल अम्बर अम्बु में, सदा आपका वास।🙏
संजीव शुक्ल 'सचिन'
यदि आप सकारात्मक नजरिया रखते हैं और हमेशा अपना सर्वश्रेष्ठ प
यदि आप सकारात्मक नजरिया रखते हैं और हमेशा अपना सर्वश्रेष्ठ प
पूर्वार्थ
दोस्त को रोज रोज
दोस्त को रोज रोज "तुम" कहकर पुकारना
ruby kumari
भगवावस्त्र
भगवावस्त्र
Dr Parveen Thakur
Loading...