Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Nov 2023 · 1 min read

*** एक दीप हर रोज रोज जले….!!! ***

” हर घर… हर द्वार…
फूलों से महकती सारा संसार मिले..!
रोशनी से चमकता हर द्वार…
हर रोज एक दीप जले…!
दीया और बाती का मिलन…
दुःखी मन को कुछ शांत कर जाता है…!
खुशियों की स्वागत् कर…
उत्साह में प्रेम गीत गा जाता है…!
जीवन के हर एक पहलू में…
सदा खुश रहना हमें सिखाता है…!
खुशियों का नाता मानव से…
जीवन भर ऐसा होता है…!
एक दीया और बाती के मिलन से…
उम्मीदों के कुछ दीप जल जाता है…!
हर घर…हर द्वार…इस जहां में..
प्रेम-प्रीत मिले…!
दीपों की रोशन से सारे जहां में…
सद्भावना के रीत मिले…!
एक दीप हर रोज जले…!! ”

****************∆∆∆***************

* बी पी पटेल
बिलासपुर (छ. ग )
१४/ ११/२०२३

Language: Hindi
1 Like · 76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आई वर्षा
आई वर्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कुल के दीपक
कुल के दीपक
Utkarsh Dubey “Kokil”
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मंजिले तड़प रहीं, मिलने को ए सिपाही
मंजिले तड़प रहीं, मिलने को ए सिपाही
Er.Navaneet R Shandily
चाहत के ज़ख्म
चाहत के ज़ख्म
Surinder blackpen
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गीत
गीत
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
उसकी रहमत से खिलें, बंजर में भी फूल।
उसकी रहमत से खिलें, बंजर में भी फूल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बहुत यत्नों से हम
बहुत यत्नों से हम
DrLakshman Jha Parimal
जब तक रहेगी ये ज़िन्दगी
जब तक रहेगी ये ज़िन्दगी
Mr.Aksharjeet
सर्वोपरि है राष्ट्र
सर्वोपरि है राष्ट्र
Dr. Harvinder Singh Bakshi
कोई गीता समझता है कोई कुरान पढ़ता है ।
कोई गीता समझता है कोई कुरान पढ़ता है ।
Dr. Man Mohan Krishna
Ghughat maryada hai, majburi nahi.
Ghughat maryada hai, majburi nahi.
Sakshi Tripathi
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वर्ष तिरासी से अब तक जो बीते चार दशक
वर्ष तिरासी से अब तक जो बीते चार दशक
Ravi Prakash
ख़्वाब की होती ये
ख़्वाब की होती ये
Dr fauzia Naseem shad
आजमाना चाहिए था by Vinit Singh Shayar
आजमाना चाहिए था by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
बचपन के पल
बचपन के पल
Soni Gupta
एक दिन यह समय भी बदलेगा
एक दिन यह समय भी बदलेगा
कवि दीपक बवेजा
खानदानी चाहत में राहत🌷
खानदानी चाहत में राहत🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
पर्वत
पर्वत
डॉ० रोहित कौशिक
किसी बच्चे की हँसी देखकर
किसी बच्चे की हँसी देखकर
ruby kumari
सदैव खुश रहने की आदत
सदैव खुश रहने की आदत
Paras Nath Jha
क्या है उसके संवादों का सार?
क्या है उसके संवादों का सार?
Manisha Manjari
मेरी आँखों से भी नींदों का रिश्ता टूट जाता है
मेरी आँखों से भी नींदों का रिश्ता टूट जाता है
Aadarsh Dubey
विषय- सत्य की जीत
विषय- सत्य की जीत
rekha mohan
2949.*पूर्णिका*
2949.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ कथनी-करनी एक...
■ कथनी-करनी एक...
*Author प्रणय प्रभात*
तुम जो हो
तुम जो हो
Shekhar Chandra Mitra
Loading...